Connect with us

NATIONAL NEWS

उपराष्ट्रपति की किताब का विमोचन, पीएम बोले- वेंकैया नायडू दिल से किसान

Published

on

नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को उपराष्ट्रपति और राज्यसभा सभापति के रूप में वेंकैया नायडू का एक साल पूरा होने पर उनकी किताब का विमोचन किया। इस मौके पर पीएम मोदी ने वेंकैया नायडू के साथ बिताए दिनों को याद किया। मोदी ने कहा कि अटल जी वेंकैया नायडू जी को मंत्रालय देना चाहते थे। तब नायडू जी ने कहा ‘मैं ग्रामीण विकास मंत्री बनना चाहता हूं।’ मोदी ने आगे कहा कि नायडू दिल से किसान हैं। उन्होंने किसानों की भलाई और कृषि के लिए खुद को समर्पित किया।

पीएम मोदी ने यह भी कहा ‘वेंकैया जी ने टीम के साथ काम करना सिखाया, वो पदभार से ज्यादा कार्यभार पर जोर देते है। वेंकैया जी के बारे में सुनकर हमें काफी गर्व होता है, वह अनुशासन का पालन करने वाले हैं। वह कभी घड़ी, कलम और पैसे नहीं रखते हैं। घड़ी न रखने पर भी वेंकैया जी हर कार्यक्रम में समय पर पहुंचते हैं।’

245 पृष्ठों और सात अध्याय वाली किताब ‘मूविंग ऑन मूविंग फॉरवर्ड : ए ईयर इन ऑफिस’ के विमोचन कार्यक्रम में पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा, पूर्व पीएम मनमोहनसिंह, लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन, केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली मौजूद रहे। नायडू ने इस किताब में राज्यसभा सभापति के रूप में अपने एक साल के कार्यकाल का वर्णन किया है। इसके अलावा में इसमें न्यू इंडिया मिशन का भी जिक्र किया है।

उपराष्ट्रपति के रूप में अपने अनुभव के बारे में बताते हुए नायडू ने पुस्तक में कहा कि यह कठिन चुनौतियों और असीमित अवसरों का समय है।

Continue Reading
Advertisement
Comments
error: Content is protected !!