Connect with us

Ambedkarnagar

ऐसा विद्यालय जहाँ बच्चे स्वतः होते हैं अनुशासित

Published

on

अंबेडकर नगर

जहाँ एक तरफ प्राथमिक विद्यालयों की स्थिति दिनों दिन गिरती चली जा रही है, वहीं दूसरी तरफ अम्बेडकर नगर जनपद के जलालपुर ब्लाक में स्थित प्रा0 वि0 पटौहा गानेपुर को देखकर आपका दिल प्रसन्न हो जाएगा । यहाँ पर एक सहायक अध्यापक हैं लाल धारी यादव जिन्होंने अपने अन्य सहायक अध्यापकों और शिक्षामित्रों को साथ लेकर मात्र दो वर्षों में विद्यालय की तस्वीर बदल डाली । हलांकि बदलाव की यह अलख सहायक अध्यापिका सुनीता मौर्या के विद्यालय में आने से जगनी शुरू हो गई थी लेकिन लाल धारी यादव के विद्यालय में आते ही विद्यालय का नक्शा बदलना शुरू हो गया ।
मात्र सहायक अध्यापक होते हुए भी लाल धारी ने अपने व्यक्तिगत मद से विद्यालय को कान्वेंट विद्यालय का स्वरूप दे दिया । इतना ही नहीं उन्होंने विद्यालय के लिए लगभग पचास हजार रूपये भीख मांग कर गर्ल्स ट्वायलेट और एल ई डी टीवी की व्यवस्था कर दी।आज विद्यालय के कमरों में सेल्फ लर्निंग कार्नर बन गये हैं जिनसे बच्चे स्वतः सीखने के लिए उत्सुक रहते हैं ।
विद्यालय में अनुशासन एवं अन्य व्यवस्था को सुचारु रूप से संचालित करने के लिए सहायक अध्यापक लाल धारी यादव की अध्यक्षता में बाल संसद का गठन किया गया है जिसमें चार समितियों( प्रार्थना समिति, स्वच्छता समिति , अनुशासन समिति और MDM समिति)का गठन किया गया है जो विद्यालय की व्यवस्था को ठीक ढंग से संचालित करने में सहयोग करती हैं । कृष्णा पाल को स्कूल कैप्टन एवं सोनाली को स्कूल वाइस कैप्टन बनाया गया है साथ ही साथ प्रत्येक समिति का एक कैप्टन और एक वाइस कैप्टन के अतिरिक्त तीन-तीन सदस्य बनाया गया है ।

लाल धारी यादव जी बताते हैं कि इस विद्यालय को यहाँ तक पहुँचाने में स0अ0 अर्चना वर्मा , शिक्षामित्र सीमा त्रिपाठी और सुमन का अतुलनीय योगदान रहा है । इन सब की शिक्षण विधियां और प्रविधियां काबिले तारीफ हैं । प्रधानाध्यापक श्री रूप चन्द्र विश्वकर्मा भी अपनी भूमिका का निर्वहन करने में पीछे नहीं रहते हैं । ब्लाक एवं जनपद स्तर के अधिकारी भी आज प्रा0 वि0 पटौहा गानेपुर का नाम गर्व से लेते हैं ।

ब्यूरो -अशुमालि कान्त चतुर्वेदी

Continue Reading
Advertisement
Comments
error: Content is protected !!