Connect with us

Uncategorized

केजरीवाल सरकार ने अब ‘आम आदमी’ के जले पर छिड़का नमक, जानें पूरा मामला

Published

on

नई दिल्ली । दिल्ली सरकार पिछले साल ईडब्ल्यूएस कोटे के तहत गरीब परिवार की बेटी को निजी स्कूल में दाखिला तो दिला नहीं सकी, लेकिन 11 महीने बाद बधाई पत्र भेजकर परिवार के जले पर नमक जरूर छिड़क दिया।

मूलरूप से बागपत का रहने वाला यह परिवार इन दिनों दुर्गापुरी में रहता है। परिवार के मुखिया दीपक कुमार ने बताया कि उन्होंने बेटी अंजलि का नर्सरी में दाखिला कराने के लिए फरवरी 2017 में ईडब्ल्यूएस कोटे के तहत ऑनलाइन आवेदन किया था, जिसकी पंजीकरण संख्या 20170077716 थी।

22 मार्च को सरकार की तरफ से मोबाइल पर मैसेज आया। इसमें लिखा था कि 15 अप्रैल तक शशि पब्लिक स्कूल में डॉक्यूमेंट जमा करा दें। उन्होंने अगले ही दिन डॉक्यूमेंट जमा करा दिए।

 

स्कूल प्रबंधन ने दो दिन बाद वेटिंग में नाम होने की बात कहकर घर भेज दिया और अंत में सीटें फुल होने का हवाला देकर दाखिला नहीं दिया। उनके पास इतने पैसे भी नहीं थे कि दूसरे निजी स्कूल में सामान्य कोटे के तहत दाखिला दिलाते।

टूटा पिता का सपना

ऐसे में निजी स्कूल में बच्ची का दाखिला सपना बनकर ही रह गया। उधर, इस मामले में शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया से भी बातचीत करने की कोशिश की गई, लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो सका।

रोऊं या हंसू, करूं मैं क्या करूं

बच्ची के पिता दीपक ने बताया कि दिल्ली सरकार की ओर से 3 जनवरी 2018 को दाखिले का बधाई पत्र भेजा गया। उसमें लिखा था कि आपकी बेटी अंजलि का एक अच्छे प्राइवेट स्कूल में दाखिला हुआ है, इसके लिए आपको बहुत-बहुत बधाई..। इसके अलावा सरकार की तारीफ में कसीदे भी पढ़े गए थे। पत्र लेकर वह फिर उस स्कूल पहुंचे, लेकिन प्रबंधन ने सरकार से बातचीत करने की बात कहकर वापस भेज दिया।

31 मार्च तक चलेगी दाखिला प्रक्रिया 

यहां पर बता दें कि देश की राजधानी के स्कूलों में शैक्षणिक सत्र 2018-19 के लिए नर्सरी दाखिले की प्रक्रिया 27 दिसंबर से शुरू हो चुकी है। यह 31 मार्च तक चलेगी। पहले चरण में फॉर्म जमा करने का आखिरी तारीख 17 जनवरी है। फिलहाल नर्सरी दाखिले की प्रक्रिया सिर्फ सामान्य वर्ग के लिए है। गरीब कोटे की सीटों के लिए अभी सरकार ने गाइडलाइन जारी नहीं की है। स्कूलों ने दाखिले को लेकर तैयारी शुरू कर दी है।

क्राइटेरिया बनाने की छूट

सरकार ने इस बार निजी स्कूलों को दाखिले के लिए क्राइटेरिया बनाने की छूट दी है। हालांकि स्कूलों को प्रत्येक बच्चे की जानकारी प्राप्त अंकों के साथ वेबसाइट पर डालकर सार्वजनिक करना होगा। मगर स्कूल शिक्षा निदेशालय की ओर से जारी दाखिला शेड्यूल में कोई बदलाव नहीं कर सकते हैं।

निजी स्कूलों को सख्त हिदायत

अभिभावक फॉर्म जमा करने के आखिरी दिन तक स्कूलों से आवेदन फॉर्म ले सकते है और जमा भी कर सकते है। सरकार ने इसे लेकर निजी स्कूलों को सख्त हिदायत दी है। दूसरी ओर, स्कूलों ने नर्सरी दाखिले को तैयारी शुरू कर दी है। ज्यादातर स्कूलों ने ऑनलाइन आवेदन फॉर्म उपलब्ध कराने के साथ फॉर्म भरने की सुविधा दी है। हालांकि स्कूलों में ऑफलाइन फॉर्म भी उपलब्ध हैं। कई स्कूलों ने दाखिले संबंधी जानकारी अपनी स्कूल वेबसाइट पर उपलब्ध भी करा दिया है।

Continue Reading
Advertisement
Comments
error: Content is protected !!