Connect with us

Uncategorized

जेल में मुन्ना बजरंगी की हत्या के बाद फैजाबाद में जेलर पर बंदी ने लगाये सनसनीखेज़ आरोप

Published

on

 

. जमानत पर जेल से रिहा हुए बंदी ने सीएम और डीजीपी से की शिकायत शुरू हुए जेलर के खिलाफ जांच

फैजाबाद -आम तौर पर मना जाता है कि अगर कोई अपराध करे तो कानून उसको सज़ा के तौर पर जेल की राह पकड़ा देता है जिस से जेल की बंद चाहरदीवारी के बीच वह अपने गुनाहों से तौबा करे और जब बाहर निकले तो एक अच्छा इंसान बने,जेल के अन्दर उसे सुधरने का मौका मिलता है लेकिन फैजाबाद मंडल कारागार की कहानी थोड़ी अलग है , ऐसा इसलिए है कि मंडल कारागार में बंद एक कैदी ने जेल के एक वरिष्ठ अधिकारी पर ऐसे गंभीर आरोप लगाए हैं कि अगर ये आरोप सही हैं तो जाहिर तौर पर ये एक बड़ा मामला है जिस से जेल के अन्दर हो रहे भ्रष्टाचार का मामला उजागर होता नज़र आ रहा है . मण्डल कारागार के जेलर डा. विनय कुमार दूबे पर जबरन वसूली, भ्रष्टाचार, अनियमितता तथा प्रताड़ना सहित कई अन्य गम्भीर आरोप लगे है जिसकी आईजीआरएस पर शिकायत के बाद जांच भी शुरू हो गयी है.यह शिकायत कारागार में निरूद्ध रहे बन्दी गौरव सिंह की ओर से मुख्यमंत्री, पुलिस महानिदेशक तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारियों से की गयी है.जेलर विनय दुबे ने इस आरोप को निराधार बताया है लेकिन कैमरे पर आने से मना कर दिया.

जमानत पर जेल से रिहा हुए बंदी ने सीएम और डीजीपी से की शिकायत शुरू हुए जेलर के खिलाफ जांच

फैजाबाद में पत्रकारों से बात करते हुए जनपद सुल्तानपुर निवासी गौरव सिंह ने आरोप लगाया कि कि वर्ष 2017 में उनके विरूद्ध दर्ज हुए एक मुकदमें के बाद वह सुल्तानपुर जेल में बन्द थे . वर्ष 2018 के मार्च महीने में उनका स्थानान्तरण सुल्तानपुर से मण्डल कारागार फैजाबाद कर दिया गया . यहा निरूद्ध रहने के दौरान जेलर डा विनय दूबे द्वारा उन्हें मारपीट कर काफी प्रताड़ित किया गया. इस बीच जब उन्होंने जेलर से साफ खाना दिलाये जाने की प्रार्थना की तो जेलर ने साफ खाने के एवज में उनसे 2 लाख रूपये की मांग की. मुलाकातियों के सामने यह बात रखने तथा जेलर को दो बार में एक-एक लाख रूपये देने के बाद उन्हें जेलर की प्रताड़ना से मुक्ति तथा विशेष सुरक्षा कक्ष में रहने, कारागार में बाहर से भोजन उपलब्ध कराना तथा अन्य सुविधाएं मिल सकी. आरोप लगाने वाले युवक ने न्याय की मांग करते हुए जेलर डा. विनय कुमार दूबे के खिलाफ कार्यवाही की मांग की है और इस सम्बन्ध में प्रदेश के मुख्यमंत्री, पुलिस महानिदेशक तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारियों से शिकायत भी की है ।

Continue Reading
Advertisement
Comments
error: Content is protected !!