Connect with us

Jaunpur

जौनपुर : डोभी में सर्पदंश के रोगियों के इलाज हेतु उठाई मांग

Published

on

हॉस्पिटल से प्रायःकई डाक्टरों के गायब होने से ग्रामीणों ने जताई नाराजगी
चंदवक/जौनपुर :- चार जिलों के मध्य बसा डोभी ब्लाक के सैकड़ों गांव सहित अन्य आस पास के वाराणसी , गाजीपुर, आजमगढ़ जिले से सटे दर्जनों गांव के मरीज सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र डोभी(बिरीबारी) पर इलाज हेतू आते है जो कि प्रदेश में यह अस्पताल आपने आप में एक स्थान रखता है लेकिन अगर उक्त सैकड़ों गांव में किसी को सर्प दंश के इलाज की जरूरत हो तो डोभी मुख्यालय से वाराणसी, आजमगढ़, जौनपुर जो सभी की दूरियां लगभग चालीस से साठ किमी की लंबी दूरी तय कर जाना होता है के बावजूद सड़को का खस्ता हाल से उक्त दूरी तय करना मिल के पत्थर जैसा हो जाता है।जिसके कारण ज्यादा तर मरीज काल के गाल में असमय समा जाते है।
इन्हीं समस्या को देखते हुए ब्लाक के दर्जनों लोगों ने मुख्य चिकित्साधिकारी, जिलाधिकारी, विधायक केराकत, सांसद मछली शहर ,स्वास्थ्य मंत्री उत्तर प्रदेश शासन ,मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश को पत्रक देकर सर्प दंस के रोगियों के लिए सही समय पर उचित इलाज मिल सके इसके लिए मांग की है।
इन्हीं ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि डोभी चिकित्सा अधीक्षक को पत्रक देने गए तो मौके से तीन डाक्टर अनुपस्थित मिले शेष गायब मिले जो प्रायः गायब ही रहते है ग्रामीणों ने डॉ वर्मा से पूछा तो उन्होंने बताया कि यहां सात डाक्टरों की तैनाती है लेकिन मौके पर चार ही है शेष तीन रात्रि ड्यूटी किए है जो अनुपस्थित है। मुख्य रूप से महिला डाक्टर डॉ अनीता क्षेत्रपाल नहीं मिली जो प्रायः अनुपस्थित ही रहती है। मौके पर
त्रिभुवन विश्वकर्मा,दिनेश प्रजापति,दीपराज यादव,श्याम नारायण,आलमगीर,सुरेश राजभर,रमेश विश्वकर्मा,बंश राज,रमेश,राकेश,मोहन,मुन्ना जंग बहादुर,जितेंद्र भीम,विजय लाल सहित अन्य लोग रहे।

Continue Reading
Advertisement
Comments
error: Content is protected !!