Connect with us

Jaunpur

जौनपुर : हिन्दी दिवस के अवसर पर गोष्ठी का आयोजन

Published

on

जलालपुर/जौनपुर :- क्षेत्र के कुटीर पीजी कॉलेज चक्के में हिंदी दिवस के अवसर पर एक गोष्ठी का आयोजन किया गया । जिसमें प्राचार्य डॉक्टर बी एन पाण्डेय ने उपस्थित सभी छात्र एवं छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि हिंदी जिंदा रही तो हमारा अभिव्यक्ति भी जिंदा रहेगा। एक कहावत व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा “घर का जोगी जोगिया आन गांव को सिद्ध” आज कुछ ऐसा ही अपने देश में हिंदी का महत्त्व उपेक्षित होता जा रहा है। आज के दौर में लोगों को इसका महत्व कविताओ एवं कहानियों से ऊपर उठकर सोचना पड़ेगा ताकि इनके मुरझाए जड़ों को खाद पानी देने से कमजोर जड़ को मजबूती मिल सके। गोष्ठी को संबोधित करते हुए मेजर रमेश मणि त्रिपाठी ने कहा कि हिंदी को आगे ले जाने के लिए कार्यशाला का आयोजन किया जाता है जिसमें विद्वानों को आने-जाने एवं भाषण करने के उपरांत उसका परिणाम शून्य आता है। समस्त छात्र मूल ज्ञान को छोड़कर अधकचरा ज्ञान को लेने में जुटे हुए हैं। हिंदी के प्रकल्प पर प्रकाश डालते हुए डॉ. के डी चौबे ने कहा कि गर्व की बात है कि अमेरिका के साथ देश के 32 संस्थाओं में हिंदी पढ़ाई जाती है दुनियाभर में तकरीबन 60 करोड से ज्यादा लोग हिंदी पढ़ते एवं बोलते हैं । वही हम अपने बच्चों को अंग्रेज बनाने में जुटे हैं। यह हिंदी भाषा की कैसी विडंबना बनी हुई है जो कि अंग्रेजों की चहेती अपने देश में उपेक्षित होती जा रही है। हिंदी का महत्व समझाना होगा ताकि हमारे राष्ट्र का गौरव बना रहे । गोष्ठी में उपस्थित ग्रंथाध्यक्ष श्री विद्यानिवास मिश्र , डॉ अमरेश कुमार, डॉ राघवेंद्र पाण्डेय , आशुतोष दुबे ,कृष्ण प्रताप दुबे , कृष्ण कुमार मिश्र ,उदय राज यादव , हितेंद्र , उपेंद्र दुबे आदि लोग उपस्थित रहे।कार्यक्रम का शुभारंभ माता सरस्वती एवं संस्थापक जी के चित्र पर पुष्प अर्पित करने के उपरांत हुआ । संचालन डॉ.श्रीनिवास तिवारी ने किया।

Continue Reading
Advertisement
Comments
error: Content is protected !!