Connect with us

Uttar Pradesh

कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय के 14 फर्जी शिक्षक बर्खास्त

Published

on

 

अनामिका शुक्ला मामले के बाद जिले में भी हो रही फर्जी शिक्षको की जाँच में हुआ खुलासा

देवरिया (पी.शर्मा)। उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले के कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालयों में फर्जी प्रमाण पत्रों पर नौकरी कर रही 14 टीचर्स की संविदा बुधवार को समाप्त कर दी गई। जिन टीचर्स पर कार्रवाई हुई है, उनमें एक वार्डेन, आठ पूर्णकालिक, चार अंशकालिक समेत एक ऊर्दू शिक्षिका भी शामिल हैं। इनके प्रमाण पत्रों की जांच के लिए राज्य परियोजना कार्यालय लखनऊ के निर्देश पर पांच सदस्यीय कमिटी गठित की गई थी।
अनामिका शुक्ला केस सामने आने के बाद राज्य परियोजना कार्यालय के निर्देश पर प्रदेश भर के कस्तूरबा आवासीय विद्यालयों में तैनात शिक्षकों के प्रमाणपत्रों की जांच शुरू हुई थी। देवरिया के कस्तूरबा विद्यालयों में फर्जी नियुक्ति की कई शिकायतें आई थीं। शिक्षकों के प्रमाण पत्रों की जांच के लिए यहां पांच सदस्यीय कमिटी गठित की गई थी। कमेटी द्वारा जिले के सभी 13 कस्तूरबा आवासीय विद्यालयों के 89 शिक्षक शिक्षिकाओं के प्रमाणपत्रों की जांच में 14 के प्रमाण पत्र फर्जी और कूट रचित पाए गए।

11 और टीचर्स के खिलाफ भी चल रही है जांच

जिलाधिकारी की संस्तुति के बाद बीएसए ने सभी 14 शिक्षक/शिक्षिकाओं को बर्खास्त कर दिया। इनके खिलाफ विधिक कार्रवाई के लिए बीएसए ने जिला समन्वयक बालिका शिक्षा को जिम्मेदारी सौंपी गई है। इसके अलावा राज्य परियोजना की जांच में 11 अन्य शिक्षकों समेत कई अंशकालिक कम्प्यूटर शिक्षकों के प्रमाण-पत्र संदिग्ध पाए गए हैं। सभी के प्रमाण-पत्रों का सत्यापन कराया जा रहा है। जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी।
जिन शिक्षकों की सेवा समाप्त की गई है, उनमें कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय रामपुर कारखाना की वार्डेन अमृता सिंह, भाटपार रानी की पूर्णकालिक शिक्षिकायें सुनीता गौतम, अमृता सिंह और निहारिका, भलुअनी की श्वेता यादव, लार की अनामिका त्रिपाठी, बरहज की अर्चना मिश्रा, गौरीबाजार की विजया सिंह, बैतालपुर की निशा कुमारी, देसही देवरिया के अंशकालिक शिक्षक नित्यानंद जायसवाल, लार के वशिष्ठ कुशवाहा, बैतालपुर के अरविंद कुमार सिंह, भटनी की सुनीता यादव समेत बरहज की ऊर्दू शिक्षिका गाजी सबेनूर आला शामिल हैं।
बीएसए प्रकाश नारायण श्रीवास्तव ने बताया कि राज्य परियोजना कार्यालय के निर्देश पर कस्तूरबा आवासीय विद्यालय में तैनात सभी शिक्षकों के प्रमाणपत्रों की जांच की गई है। इसमें 14 के प्रमाण पत्र फर्जी पाए गए हैं। उन सभी के खिलाफ बर्खास्तगी की कार्रवाई की गई है।

Continue Reading
Advertisement
Comments
error: Content is protected !!