Connect with us

LOCAL NEWS

प्यार के जाल में फंसाती थी दो महिला ठग दरोगा जी करते थे वसूली जांच के बाद हुए सस्पेंड

Published

on

फैजाबाद . फैजाबाद पुलिस के ऊपर एक ऐसा आरोप लगा है जिसे जानकार आपको भी हैरानी होगी और ये आरोप है ठगी का .शर्मनाक बात तो ये है कि इस सनसनीखेज़ मामले में आरोपी बनाकर जेल भेजी गयी दो महिला ठगों से आरोपी दरोगा से पुरानी जान पहचान रही है और इस से पहले भी फैजाबाद शहर से हटकर ग्रामीण क्षेत्र इनायत नगर में अपनी तैनाती के दौरान भी दो महिलाओं और आरोपी दरोगा ने कई लोगों से वसूली की थी,फैजाबाद में जब एक ऑटो मोबाइल कारोबारी से बदसलूकी और ठगी का मामला सामने आया तो शिकायत होने पर पुलिस के उच्चाधिकारियों ने पूरे मामले की जांच की तो आरोप सही पाए गए ,अपनी फजीहत से बचने के लिए पुलिस ने ठगी करने वाली महिलाओं को चुप चाप जेल भेज दिया वहीँ आरोपी दरोगा को सस्पेंड कर दिया गया है . दिलचस्प बात तो ये है कि छोटे छोटे मामलों का वर्क आउट कर प्रेस के सामने अपनी पीठ थपथपाने वाली फैजाबाद पुलिस और उसके कप्तान सुभाष सिंह बघेल ने ठगी के इतने बड़े मामले को लेकर चुप्पी साधे राखी और बिना किसी प्रेस कांफ्रेंस या मीडिया ब्रीफिंग के इस सनसनीखेज़ मामले के आरोपियों पर गुप चुप कार्यवाही कर दी .

फैजाबाद पुलिस का शर्मनाक कारनाम आया सामने ठगी के आरोप में चौकी इंचार्ज सस्पेंड दो महिला ठग भेजी गयी जेल

खाकी को शर्मसार करने वाली घटना में शहर के फतेहगंज चौकी इंचार्ज सचीन्द्र यादव पर आरोप लगा है कि उन्होंने इनायतनगर थाने के पास एक बाइक की एजेंसी जिसका मालिक शहर के गांधी नगर में रहता है. इस आटो मोबाइल कारोबारी से फतेहगंज चौकी इंचार्ज सचीन्द्र यादव ने 11 फरवरी की रात में दो महिलाओं की मिलीभगत से आशनाई के प्रकरण में फंसाने का दबाव बनाकर 29 हजार रुपए नकद और साढ़े तीन लाख का चेक ले लिया था. यह पूरा मामला एसएसपी सुभाष सिंह बघेल के संज्ञान में आ गया, उन्होंने मामले की जांच एसपी सिटी अनिल सिंह सिसोदिया को सौंपी, जांच में मामला सही पाया गया. इसके बाद पुलिस अधिकारियों ने विभाग की लाज बचाने के लिए चौकी इंचार्ज से आटो मोबाइल के व्यवसाई को पैसा व चेक वापस कराया और मामले में संलिप्त दोनों महिलाओं को जेल भेज दिया गया.

महिला ठगों से आरोपी दरोगा से बातचीत की काल डिटेल के बाद हुआ खुलासा पहले भी अंजाम दे चुके हैं इस तरह की घटनाएँ

पुलिस सूत्रों की मानें तो तारून थाना क्षेत्र की एक महिला देह व्यापार का धंधा करती है. वह पैसे वाले युवकों को झांसा देकर साथ लाती है और फंसाने का डर दिखाकर अच्छी-खासी रकम वसूलती है और इसमें पुलिस का भी हिस्सा रहता है यहीं हाल इस मामले का भी बताया जा रहा है. पता चला है कि जब सचीन्द्र यादव तारून थाना क्षेत्र के गयासपुर चौकी के इंचार्ज थे तभी से इस महिला के संपर्क में थे. इसका खुलासा एसपी सिटी की जांच का हिस्सा बनी मोबाइल की कॉल डिटेल से हुआ है. इस प्रकरण में गिरफ्तार दूसरी महिला इनायतनगर थाना क्षेत्र की है. कोतवाल अमर सिंह ने बताया कि दोनों महिलाओं को ठगी के आरोप में जेल भेज दिया गया है .वहीँ एसएसपी सुभाष सिंह बघेल ने चौकी इंचार्ज को सस्पेंड कर दिया और प्रकरण में संलिप्त दो महिलाओं पर मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया गया.

Continue Reading
Advertisement
Comments
error: Content is protected !!