Connect with us

LUCKNOW

फर्जी डिग्री से नौकरी कर रहा था DSP का बेटा

Published

on

लखनऊ
सहकारी संस्थागत सेवा मंडल द्वारा की गई एक और भर्ती संदेह के घेरे में है। सेवा मंडल ने 2013 में लैकफेड घोटाले की जांच कर रहे चर्चित डिप्टी एसपी आदित्य प्रकाश गंगवार के बेटे अभय गंगवार की भर्ती उप्र राज्य भंडारण निगम में सहायक प्रबंधक के पद पर की थी। जांच में अभय गंगवार की एमबीए की डिग्री फर्जी पाई गए। बीते सप्ताह अभय गंगवार को नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया।

2013 में सहकारिता विभाग में भर्तियों के लिए बने सहकारी संस्थागत सेवामंडल ने राज्य भंडारण निगम के लिए उप प्रबंधक, प्राविधिक सहायक, कनिष्ठ कार्यालय सहायक और चौकीदार के पदों पर करीब चार दर्जन भर्तियां की थीं। उस समय सेवामंडल के मुखिया का दायित्व भी भंडारण निगम के तत्कालीन प्रबंध निदेशक ओंकार यादव के पास था।

भर्तियों में धांधली के साथ नेताओं और अधिकारियों के रिश्तेदारों को रखे जाने का मामला उस समय भी चर्चा में आया था, लेकिन बाद में मामला दबा दिया गया। उसी भर्ती में लैकफेड घोटाले की जांच कर रहे तत्कालीन डिप्टी एसपी आदित्य प्रकाश गंगवार के बेटे अभय गंगवार की भी उप प्रबंधक के पद पर नियुक्ति की गई थी। विभागीय अधिकारियों की मानें तो भर्ती के समय अभय गंगवार ने अपने शैक्षिक प्रमाणपत्रों के साथ आईआईपीएम बेंगलुरु से एमबीए की डिग्री लगाई थी।

यूजीसी ने करवाई जांच
भर्ती के कुछ दिन बाद ही अभय गंगवार की डिग्री फर्जी होने की शिकायतें मिलने लगीं, लेकिन विभागीय अधिकारी शिकायतों के दबाते रहे। सरकार बदलने के बाद फिर शिकायतें शुरू हुईं तो विभाग ने एमबीए डिग्री की जांच यूजीसी से करवाने के लिए मानव संसाधन विकास मंत्रालय को पत्र लिखा। सूत्रों के मुताबिक मंत्रालय ने जांच कर अपना जवाब भेजा, जिसमें डिग्री के फर्जी होने का उल्लेख था।

उसी दिन हुई भंडारण निगम बोर्ड की बैठक में भी फर्जी डिग्री का मामला जोर-शोर से उठा। बैठक में अभय गंगवार को बर्खास्त किए जाने का फैसला होने के बाद एमडी आलोक कुमार ने उसकी बर्खास्तगी का आदेश भी जारी कर दिया। हालांकि, वह इस मामले में कुछ भी बोलने से कतरा रहे हैं। एनबीटी ने जब उनसे इस बाबत जानकारी मांगी तो उन्होंने कहीं व्यस्त होने की बात कहते हुए फोन काट दिया।

Continue Reading
Advertisement
Comments
error: Content is protected !!