Connect with us

Hamirpur

मुसलमानों भाईयों से अपील, शबे-बरात में घरों पर रहकर करें इबादत- मोहम्मद परवेज़ मंसूरी

Published

on

 

हमीरपुर:- समाजवादी पार्टी के युवा नेता एवं सामजसेवी मोहम्मद परवेज़ ने शबे-बरात के अवसर पर सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने की अपील की है. उन्होंने सारे मुसलमानों का ध्यान आकर्षित किया है कि इस अवसर पर अपने घरों में रहकर ही इबादत और कुरान मजीद की तिलावत करें. शबे-बरात में इबादत करना सवाब का काम है और इसकी विशेष महत्ता है. नफली इबादत जितनी अधिक हो सके, उसे रात में अंजाम दें. जिक्र करें और तसबीह पढ़ें. दुआएं करें और खानदान में अपने गुजर चुके एवं रिश्तेदारों को सवाब पहुंचाने का एहतमाम करें. यह सारी इबादतें घर पर रहकर बेहतर तरीके से अंजाम दी जा सकती हैं, मोहम्मद परवेज़ ने मानवता की सुरक्षा के लिए घर से न निकलें मुसलमान, कब्रिस्तानों में हर शबे-बरात में जाना जरूरी नहीं है. ऐसे हालात में घरों से बाहर निकलना, देर रात सड़क पर हंगामा करना, गाड़ियां में घूमाना, शरीयत और कानून के खिलाफ है.

शबे -बरात के अवसर पर अपने घरों से बाहर न निकलें बल्कि अपने घरों में नमाज़ और दूसरी इबादतों में खुद को लगाए रखें गाड़ी पर सवार होकर सड़क पर न घूमें और न ही आतिशबाजी जैसे शरीयत के खिलाफ कार्यों में लिप्त हों.कब्रिस्तान जाने के बजाय अपने दुनिया से चले गए परिवारजनों, रिश्तेदारों के लिए, घरों में रहकर ही सवाब पहुंचाने का कार्य करें.इस रात में भी मस्जिदों में फर्ज नमाज की अदायगी के लिए न जाएं, बल्कि अपने घरों में रहकर सभी नमाज अदा करें.हर व्यक्ति अपने स्थान पर तौबा- इस्तिगफार, इबादत, दुआएं अवश्य करे.इन क्षणों को बेकार में नष्ट करने के बजाए लोगों की भलाई और जनसेवा के कामों में लगाया जाए.सदका, खैरात (अल्लाह की राह में दान) का प्रबंध किया जाए.मोहल्ला और पड़ोस में मौजूद गरीब और आर्थिक तौर पर परेशान लोगों की मदद का विशेष ध्यान रखा जाए.तहज्जुद का एहतमाम करें और अल्लाह से रो-रो कर माफी मांगे.देश और कौम की भलाई और इस कोरोना महामारी से छुटकारे के लिए विशेष दुआ करें.

Continue Reading
Advertisement
Comments
error: Content is protected !!