Connect with us

Uncategorized

यूपी: गठबंधन में फंसा पेच तो एसपी अपने हिस्से में से दे सकती है आरएलडी को सीट

Published

on

नोएडा
गौतमबुद्ध नगर लोकसभा क्षेत्र वर्ष 2009 के गणित के हिसाब से बीएसपी के कोटे में आता है, जबकि 2014 के लोकसभा परिणाम के हिसाब से यह एसपी के कोटे में आता है। अब चूंकि 2019 के लिए एसपी-बीएसपी के बीच गठबंधन होना है तो गौतमबुद्ध नगर को लेकर मायावती पैतृक जिला होने के नाते इसे मांग सकती हैं। इस पर एसपी भी नरमी बरत सकती है। कुछ ऐसे ही फॉर्म्युला 2019 के लोकसभा चुनावों को लेकर भी अपनाए जाने वाले हैं। खास बात यह भी है कि अब ऐसे भी संकेत मिले हैं कि 2019 में एसपी अपने कोटे में से टिकट काटकर आरएलडी को दे सकती है।

2014 के फॉर्म्यूले से हो सकता है बंटवारा: यूपी के साथ-साथ छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश व राजस्थान में विधानसभा चुनावों को लेकर बीएसपी और कांग्रेस के बीच बढ़ रही नजदीकियों पर विदेशी समाचार पत्र भी दिलचस्पी दिखा रहे हैं। यूपी को लेकर एसपी व बीएसपी ने यह संकेत दिया था कि 2014 में जो पार्टियां दूसरे नंबर पर रही थीं वे उस सीट पर दावेदारी कर सकती हैं।

इस लिहाज से देखा जाए तो यूपी में एसपी 35 सीटों पर दूसरे नंबर पर थी जबकि पांच सीट पर जीती थी। ऐसे में एसपी का दावा 40 लोकसभा सीटों पर बनता है। इसकी पुष्टि एसपी के प्रवक्ता राजकुमार भाटी भी करते हैं। उधर 2014 के लोकसभा चुनाव में बीएसपी 37 स्थानों पर दूसरे नंबर पर थी। ऐसे में यह बात उठी कि जब 77 सीटों पर दो दलों में दावेदारी है तो बाकी तीन सीट पर कांग्रेस व आरएलडी के बीच बंटवारा कैसे होगा।

आरएलडी को एसपी कोटे से मिलेंगी सीटें
एसपी ने संकेत दिया है कि आरएलडी को वह अपने कोटे से टिकट दे सकती है। इसकी वजह यह है कि 2009 में बिजनौर, अमरोहा, बागपत, हाथरस व मथुरा सीट पर आरएलडी जीती थी। जबकि 2014 के चुनावों में हाथरस में बीएसपी और मथुरा में आरएलडी के अलावा बिजनौर, अमरोहा व बागपत में एसपी ही दूसरे नंबर पर रही थी। बीएसपी के सूत्रों का कहना है कि पार्टी ने भी गठबंधन के तहत 40 सीटें मांगी है मगर वह 34 से कम लेने को राजी नहीं है। कांग्रेस की तरफ से 2009 के फार्म्यूले के हिसाब से 22 सीटें मांगी गई है। ऐसे में कांग्रेस बीएसपी और एसपी को मध्यप्रदेश में कितनी सीटें देगी, इसी पर यूपी में कांग्रेस का कोटा तय होगा।

बीएसपी ने एमपी में मांगी 30 और छत्तीसगढ़ में 8 सीट
सूत्रों की मानें तो मध्यप्रदेश में बीएसपी ने 30 और छत्तीसगढ़ में 8 विधानसभा सीट मांगी है। एसपी भी मध्यप्रदेश में पूरी तैयारी से जुटी है। वह भी गठबंधन की स्थिति में दावेदारी करेगी। एसपी के मध्यप्रदेश में सात एमएलए रह चुके हैं। ऐसे में कांग्रेस ने पहली बैठक में बीएसपी को एमपी में 12 से 15 के बीच और छत्तीसगढ़ में 4 सीटों को देने की बात कही है। इसी पर यूपी का फार्म्यूला तय होगा।

Continue Reading
Advertisement
Comments
error: Content is protected !!