Connect with us

Uncategorized

ये है चौकी प्रभारी देहली ,इनके डंडे के आगे बेबस है मानवाधिकार

Published

on

पूर्व में माननीय उच्च न्यायालय के आदेश पर इधर मानवाधिकार आयोग कर रहा है जांच उधर कुमासी निवासी एक ब्यक्ति को चौकी देहली लाकर की जमकर धुनाई,रुपये लेकर है छोड़ने का आरोप।

बलदीराय/सुलतानपुर।लाख प्रयास के बाद भी कही न कही मित्र पुलिस ग्रामीणो के लिये शत्रु बनती नजर आ रही है।
थाना बल्दीराय क्षेत्र के देहली चौकी इंचार्ज राजकुमार यादव का कारनामा ,कुमासी निवासी संतोष मौर्या को बिना किसी मामले मे चौकी मे लाकर की पिटाई युवक से बीस हजार रुपये लेने के बाद चौकी से छोड़ने का है आरोप। पीड़ित संतोष मौर्या ने पुलिस अधीक्षक सुलतानपुर,मुख्य मंत्री योगी आदित्य नाथ ,पुलिस महानिदेशक ,मानवाधिकार से लगायी न्याय की गोहार ।पीड़ित की शिकायत पर पुलिस कप्तान ने सी ओ बल्दीराय को जांच तो सौपी है परन्तु ग्रामीणों में पुलिस का गुंडो सा बर्ताव कही न कहीं खाकी के इकबाल पर सवाल खड़ा कर रहा है।चौकी प्रभारी देहली की यह करतूत नई नही है।इसके पहले भी ऐंजर के एक गांव में हुई हत्या के एक मामले में बिना अधिकारियों की अनुमति व ठोस आधार के एक युवक को गैर जनपद से उठाकर पंडरे के जंगल मे गन पॉइंट पर बिना अपराध के अपराध कबूल करने की धमकी दी।किसी तरह छूटे युवक ने मामले से उच्चाधिकारियो व मानवाधिकार आयोग से गुहार लगाई।मानवाधिकार आयोग की जांच शुरू हुई तो उक्त दरोगा ने परिवारीजनों को धमकाना शुरू कर दिया।हारकर युवक ने उच्च न्यायालय में रिट याचिका दाखिल की तो मामले को गम्भीर मानते हुए न्यायालय ने भी उक्त दरोगा के कृत्यों की जांच का आदेश दे दिया।मामला अभी चल ही रहा था कि एक निरीह युवक पर पुलिस ने लाठियां बरसा अंग्रेजी हुकूमत की याद ताजा कर दी।हलाकि ग्रामीणों में चौकी देहली की पुलिसिंग ब्यवस्था को लेकर भय देखा जा रहा है।जांच की पारदर्षिता को लेकर ग्रामीणों में संसय है।

 

Continue Reading
Advertisement
Comments
error: Content is protected !!