Connect with us

Uncategorized

*शरीर को माध्यम बनाकर सीखने की प्रक्रिया ही शारीरिक शिक्षा-प्रो0 बीसी कापरी

Published

on

 

आतंरिक रूप से पवित्र करने का कार्य करता है योग-राजीव चौधरी

*खेल विज्ञान, शारीरिक शिक्षा एवं योग‘ पुस्तक का हुआ विमोचन*

दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का हुआ उद्घाटन

चकिया, चंदौली।
*हमारे अंदर संस्कार खेलों से आते हैं, तथा शरीर को माध्यम बनाकर जो कुछ सीखते है, वह ही शारीरिक शिक्षा कहलाता है। उक्त बातें स्थानीय सावित्री बाई फूले राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में आयोजित ‘आधुनिक युग में खेल विज्ञान और शारीरिक शिक्षा, दर्शन और योग‘ विषयक दो दिवसीय संगोष्ठी के उद्घाटन सत्र में बतौर मुख्य अतिथि काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के शारीरिक विभाग के प्रोफेसर बीसी कापरी ने उपस्थित लोगों से कहीं।*

*उन्होंने कहा कि शारीरिक शिक्षा सभी के लिए जरूरी है, यह हमें आंतरिक रूप से साथ-साथ शारीरिक रूप से भी मजबूत करने का कार्य करता है।* जिससे हमारे अंदर एक अद्भुत शक्ति क संचार होता है। कहा कि शारिरीक शिक्षा हमें यह सीख देता है कि हम अपने कार्य से दूसरों को प्रभावित करने का कार्य करें ना कि दूसरे को प्रभावित करने के लिए हम कार्य करें।
*विशिष्ट अतिथि के रूप में पंडित रविशंकर विश्वविद्यालय के शारीरिक विभाग के विभागाध्यक्ष राजीव चैधरी ने कहा कि योग का प्रयोग शारीरिक विकास के लिए जाना जाता है*, लेकिन मुख्य रूप से हमें आतंरिक रूप से पवित्र करता है। कहा कि मनुष्य के आंतरिक मन में अहंकार का निवास होता है, जिसे योग के बल पर समाप्त किया जा सकता है। कहा कि योग के क्षेत्र का कोई स्तरीयता नहीं है, इसका क्षेत्र काफी विस्तृत है।
इसके पहले राष्ट्रीय संगोष्ठी की शुरूआत अतिथियों द्वारा मां सरस्वती के प्रतिमा पर माल्यार्पण व दीप प्रज्जवलित कर किया गया। इसके उपरांत महाविद्यालय की छात्राओं द्वारा सरस्वती वंदना, कुलगीत व स्वागत गान प्रस्तुत किया गया। इसके पश्चात् शिक्षकों द्वारा अतिथियों का माल्र्यापण व बैज अलंकरण किया गया तथा समाजशास्त्र की विभागाध्यक्ष डा0 संगीता सिन्हा द्वारा स्वागत भाषण दिया गया।
*इस अवसर मंच की अध्यक्षता करते हुए महाविद्यालय की प्राचार्य कपिलदेव राम, डा0 बालरूप, संजय नारायण सिंह, कार्यक्रम संयोजक डा0 सरवन यादव, डा0 कौशल कुमार श्रीवास्तव, शमसेर बहादुर, क्रांति त्रिवेदी, डा0 मिथिलेश कुमार सिंह, रमाकांत गोड़, प्रियंका पटेल, देवेन्द्र बहादुर, डा0 श्याम जनम सोनकर सहित महाविद्यालय के छात्र-छात्राएं व अन्य लोग मौजूद रहे। संचालन डा0 अमिता सिंह ने किया।*

इनसेट-
*दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी के उद्घाटन सत्र में कार्यक्रम संयोजक व शारीरिक विभाग के विभागाध्यक्ष डा0 सरवन यादव द्वारा संपादित ‘खेल विज्ञान, शारीरिक शिक्षा एवं योग‘ पुस्तक का उपस्थित अतिथि काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के शारीरिक विभाग के प्रोफेसर बीसी कापरी, पंडित रविशंकर विश्वविद्यालय के शारीरिक विभाग के विभागाध्यक्ष राजीव चैधरी, महाविद्यालय के प्राचार्य डा0 कपिलदेव राम ने विमोचन किया। इस दौरान अतिथियों ने पुस्तक की सराहना करते हुए कहा कि यह पुस्तक छात्रों को खेल विज्ञान की गहराईयों के साथ-साथ शारीरिक शिक्षा व योग के आपसी समन्वय को स्थापित करता है, जिससे छात्रों को काफी कुछ सीखने को मिलेगा।*

Continue Reading
Advertisement
Comments
error: Content is protected !!