Connect with us

LUCKNOW

हास्टल आवंटन न होने से परेशान दलित छात्र विश्वविद्यालय कैंपस में तंबू लगाकर रहने को मजबूर

Published

on

लखनऊ । छात्रों पर बढ़ते उत्पीड़न हो या विश्वविद्यालय प्रशासन का अत्याचार जैसे मामले रुकने का नाम नहीं ले रहे है । अभी हाल ही में अम्बेडकर विश्वविद्यालय प्रशासन पर छात्रों ने आरोप लगाया था कि विश्वविद्यालय में दाखिले के वक्त प्रशासन जाति के आधार पर दाखिला दे रहा है । जिससे दलित छात्र शिक्षा से वंचित हो जाते है, क्योंकि विश्वविद्यालय में 50 फीसदी एसएसी-एसटी की सीटे है । बावजूद इसके भी यहां दलित छात्रों का दाखिला आसानी से नहीं हो पाता है । ऐसा ही ताजा मामला एक बार फिर सामने आया है जहां दलित छात्र रोहित को हास्टल आवंटन न होने की वजह से कैपंस के बाहर रहना पड़ रहा है ।

लखनऊ स्थित बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय के शिक्षा विभाग में पढ रहा छात्र रोहित ने विश्वविद्यालय प्रशासन पर आरोप लगाते हुए बताया कि प्रशासन की अंदेखी की वजह से आज मैं विश्वविद्यालय कैंपस में तम्बू लगाकर रहने पर मजबूर हूँ,

क्योंकि प्रशासन को कई दफा अपनी मजबूरी बताया और हास्टल आवंटन करने की माँग की लेकिन प्रशासन मुझे बार-बार मना कर के जाने को बोल रहा । इसीलिए आज परेशान होकर मुझे कैंपस में तंबू लगाकर रहना पड़ रहा है ।

Continue Reading
Advertisement
Comments
error: Content is protected !!