नेपालब्रेकिंग न्यूज़

नेपाल-भारत की खुली सीमा पर सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट आतंकी घुसपैठ आने की आशंका।

नेपाल-भारत की खुली सीमा पर सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट आतंकी घुसपैठ आने की आशंका।

संवाददाता रामनवमी की रिपोर्ट।

आतंकी घुसपैठ की आशंकाओं के मद्देनजर भारत-नेपाल बार्डर पर सुरक्षा व खुफिया एजेंसियां अलर्ट हो गई हैं। सीमा पर सतर्कता और सुरक्षा बढ़ा दी गई है। 26 जनवरी तक ऑपरेशन अलर्ट चलाया जा रहा है।

कई राज्यों में सीएए के विरोध प्रदर्शन में बाहरी लोगों के घुसपैठ की आशंका को लेकर कड़ी नजर रखी जा रही है। वहीं भारत सरकार की खुफिया एजेंसी आईबी ने सीमा पर डेरा डाल दिया है। एसएसबी और पुलिस के बिंग जवान सार्दी वर्दी में सीमा पर नजर बनाए हुए हैं।

सीमा पर अभी दस जनवरी को सुरक्षा का जायजा लेने एसएसबी के महानिदेशक कुमार राजेश चन्द्रा भी पहुंचे थे। उसके बाद से सीमा सुरक्षा बल के साथ सिविल पुलिस और ख़ुफिया एजेंसिया काफी सतर्क हैं।

चौकसी तेज करते हुए भारत से नेपाल आने जाने वाले लोगों व वाहनों की डाग स्क्वायड, हेडमेडल डिटेक्टर व मिरर डिटेक्टर से चौबीस घंटे नजर रखी जा रही है। संदिग्ध प्रतीत होने पर उनकी फोटो तथा नाम, पते एक रजिस्टर में दर्ज करने के साथ उनकी आईडी प्रूफ की भी जांच जवान गहनता से कर रहे हैं ।

सीमा क्षेत्र के सभी नाकों पर जवानों की संख्या बढाते हुए गश्त तेज हो गई है। भारत सरकार गृह मंत्रालय के निर्देश पर एसएसबी ने सीमा पर पूरे जनवरी महीने में आपरेशन अलर्ट जारी कर रखा है। सरहद के करीब 70 पगडंडी एवं 16 चौकी पर जवानों का कड़ा पहरा है।

ख़ुफिया विभाग के अनुसार कश्मीर में हुए बदलाव एवं सीएए को लेकर देश विरोधी तत्व सक्रिय हो गए हैं। नेपाल में भारत विरोधी कई संगठन जैसे लश्कर ए तैयबा, इंडियन मुजाहिदीन व सिमी समेत कई आतंकी संगठन एक साझा प्लान के तहत नेपाल के रास्ते भारत में घुसपैठ की फिराक में हैं। सरहद पर होने वाली हर गतिविधि की रिपोर्ट प्रतिदिन गृह मंत्रालय को भेजी जा रही है।

इस संबंध में एसएसबी कंपनी कमांडर अमित कुमार ने बताया कि सीमा पर आपरेशन अलर्ट जारी है। एसएसबी पुलिस के साथ हर नाकों पर जांच तेज कर दी है। सीमा पार से आने वाले यात्रियों, देशी विदेशी पर्यटकों के संदिग्ध नजर आने पर पूछताछ के साथ कड़ी तलाशी ली जा रही है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button