Uncategorised

मुंबई,कमल नयन बजाज ने बजट को बताया आम आदमी के लिए निराशाजनक

कमल नयन बजाज ने बजट को बताया आम आदमी के लिए निराशाजनक

रिपोर्ट-एसपी पाण्डेय

मुंबई : वाडा मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष कमल नयन बजाज ने बजट पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट में आयकर की दरों में बड़े बदलाव का ऐलान किया है, परंतु नए टैक्स स्लैब के साथ एक पेंच जुड़ा हुआ है। अगर नई दरों से कर अदायगी करते हैं, तो टैक्स में मिलने वाली करीब 70 रियायतों से हाथ धोना पड़ेगा। पहले बीमा निवेश, घर का किराया, मेडिकल, बच्चों की स्कूल फीस जैसी कुल 100 रियायतें दी गई थीं, जबकि अब नए टैक्स स्लैब में 70 रियासतों को पूरी तरह से खत्म कर दिया गया है। आयकर में बड़े बदलाव के बाद टैक्स की रियायतों के जरिए बचत प्रोत्साहित करने की नीति खत्म हो जाएगी। इससे बचत में गिरावट बढ़ेगी और बीमा, मेडिक्लेम, छोटी बचत स्कीमों पर भी इसका असर होगा। अगर होम लोन पर टैक्स छूट भी नई स्कीम का हिस्सा होती है, तो हाउसिंग भी प्रभावित होगी। छूट रियायत की वापसी के बदले टैक्स रियायत की बात बीमा, यूलिप, रियल स्टेट कारोबारियों का बुरा हाल होगा। पार्टनरशिप फर्म पर टैक्स नहीं बदला गया है। सरकार बार-बार ठोस कदम उठाने की बात करती है, लेकिन वह ठोस कदम जनता के खिलाफ ही उठते हैं, जनता के हित में नहीं। निजीकरण की ओर सरकार का बढ़ना, अमीरों को और अमीर बनाने का अवसर प्रदान करना है। इस बजट में आम आदमी, गरीबों और रोजगार का कोई जिक्र नहीं है, जो देश के लिए आज बड़ी चुनौती है। सरकार ने इस पर कोई ध्यान नहीं दिया है। सरकार ने छोटे-छोटे कारोबारियों के लिए मुद्रा लोन की घोषणा की, लेकिन जब बैंक में लोन के लिए जाते हैं, तो सौ प्रतिशत सिक्योरिटी मांगी जाती है, फिर भी बैंकों का एनपीए क्यों बढ़ता है ? सरकार ने इसके लिए क्या कदम उठाए हैं?

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button