Maharajganjएडमिनिस्ट्रेसशन

गौशाला निर्माण हुआ हवा हवाई जिम्मेदार काट रहे मलाई’जिम्मेदारों द्वारा निर्माण के नाम पर सरकारी धन का बंदरबांट,

गौशाला निर्माण हुआ हवा हवाई जिम्मेदार काट रहे मलाई’जिम्मेदारों द्वारा निर्माण के नाम पर सरकारी धन का बंदरबांट।

आनन्दनगर महाराजगंज। विकासखंड फरेन्दा क्षेत्र के मधुकरपुर महदेवा म बना सार्वजनिक पशु आश्रय का निर्माण कराया गया है जहां मौके पर एक भी जानवर नहीं है। पशु आश्रय पूर्ण रूप से हवा हवाई साबित हो रहा है। किसानों के लिए छुट्टा पशु मुसीबत बन रहे हैं वहीं दूसरी तरफ उक्त गौशाला का निर्माण करा कर विकासखंड के अधिकारियों व ग्राम प्रधान के द्वारा धन का दुरुपयोग करके सरकारी धन का दुरुपयोग किया जा रहा है। जिम्मेदारों द्वारा केवल निर्माण दिखाकर कर शो पीस बना लिया गया है ।पशुओं के चारा के नाम पर आ रहा धन सम्बंधित अधिकारी अपना चारा बना ले रहे केवल कागजो मे पशुओं को चारा खिलाया जा रहा है मौके पर सब हवा हवाई साबित हो रहा है। दूसरी तरफ वही किसान इस कड़ाके की ठंड में दिन रात एक करके गेहूं की किसान अपने फसल को रखवाली करने के लिए अपने खेतों मे छप्पर डालकर रतजगवा कर रहे हैं ।यही नहीं किसान अपनी जान जोखिम में डालकर गेहूं की खेत का रखवाली कर रहे हैं उसके बावजूद भी किसानों के फसल को छुट्टा पशुओं द्वारा बर्बाद कर दिया जा रहा है और जिम्मेदारों द्वारा निर्माण कराया गया गौशाला शोपीस बनकर रह जा रहा है ।उक्त गौशाला में जिम्मेदारों द्वारा निर्माण कराई गई मानक की अनदेखी पाई जा रही है एक तरफ प्रदेश सरकार लाखों-करोड़ों का बजट मुहैया करा रही है तो, वही जिम्मेदारों द्वारा सरकारी धन का बंदरबांट किया जा रहा है। शासन प्रशासन के द्बारा उक्त गौशाला उपेक्षित दिख रहा है जिससे जिम्मेदारों का हौसला बुलंद होता जा रहा है और दिन प्रतिदिन मलाई काट रहे हैं। उक्त गौशाला के निर्माण कार्य में 9 लाख 37 हजार पाच सौ सत्तर रुपये खर्च हुए है इतना अधिक सरकारी धन खर्च होने के बावजूद भी पशु आश्रय केंद्र में एक भी जानवर नहीं हैं जो सरकार की योजनाओं का पोल खोल रहा है। जिम्मेदार सरकारी धन पलीता लगा दिया और सरकारी धन बेसहारा जानवरों को तो काम नहीं आ रहा है लेकिन जिम्मेदार इसकी आड़ में कागजी घोडा दौडाकर मलाई काट रहे हैं।इसी क्रम में धानी, फरेन्दा और वृजमनगँज के किसान तबाह हैं और सरकारी योजनाओं के आस में रातभर खेतों की रखवाली कर अपने को कोस रहे हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button