Connect with us

Uttar Pradesh

#निर्वाण टाइम्स : प्रोफेसर ने राज्यपाल के लिए किया अपशब्दों का प्रयोग,डिप्टी सीएम को भी नही बख्सा

Published

on

 

ओपी पाण्डेय(निर्वाण टाइम्स)

लखनऊ। यूपी के प्रोफेसर का ऐसा ऑडियो सामने आया है, जिसे सुनकर यकीन नहीं होगा कि किसी शिक्षक का स्तर इतना नीचे गिर सकता है।

जौनपुर के टीडी कॉलेज के प्रोफेसर का ऑडियो सामने आया है, जिसमें उन्होंने राज्यपाल और शिक्षा मंत्री के साथ-साथ डिप्टी सीएम के लिए अपशब्दों का प्रयोग किया है।

उत्तर प्रदेश के जौनपुर स्थित टीडी कॉलेज से जुड़ा हुआ है यह मामला। जहां एक दर्जन से अधिक एल एल एम छात्रों के अनुत्तीर्ण होने पर राज्यपाल ने उनके निवेदन पर पुनर्मूल्यांकन का आदेश दिया था, जिससे नाराज टीडी कॉलेज के प्रोफेसर राजेश सिंह ने न सिर्फ पीड़ित छात्रों को भला बुरा कहा, बल्कि जान से मारने की धमकी भी दी।

प्रोफेसर राजेश सिंह यहीं नहीं रुके और उन्होंने डिप्टी सीएम व उच्च शिक्षा मंत्री दिनेश शर्मा और राज्यपाल राम नाईक को भी अपशब्द कहते हुए वर्ग विशेष पर भी टिप्पणी की। पहले तो छात्र शिव गिरी गोस्वामी को प्रोफेसर राजेश सिंह ने अपशब्द कहे फिर राज्यपाल रामनाईक और डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा पर भी अमर्यादित टिप्पणी की।

पीड़ित छात्र ने कार्रवाई के लिए राज्यपाल को भेजा पत्र
टीडी कॉलेज के एल्बम छात्र शिव गिरी गोस्वामी ने इस पूरे प्रकरण पर राज्यपाल राम नाईक को पत्र भेजकर कार्रवाई की मांग की है। उन्होंने पत्र में राज्यपाल के द्वारा मदद करने को गलत समझ कर प्रोफेसर राजेश सिंह के दिए जान से मारने की धमकी और राज्यपाल डिप्टी सीएम को अपशब्द कहे जाने का जिक्र किया है। पीड़ित छात्र शिव गिरी गोस्वामी ने निर्वाण टाइम्स को फोन पर बताया कि एलएलएम की परीक्षा में 20 में से 17 छात्र फेल कर दिए गए थे, जिसके पुनर्मूल्यांकन की मांग को लेकर वह राज्यपाल राम नाईक से मिले थे और राज्यपाल ने इस पूरे विषय पर कुलपति को पुनर्मूल्यांकन कराने का आदेश दिया था।
इससे नाराज प्रोफेसर राजेश सिंह ने उनके साथ गाली-गलौज तो की ही, साथ ही जान से मारने और फेल करने की भी धमकी दी। प्रोफेसर इतने पर ही नहीं रुके उन्होंने राज्यपाल राम नाईक और डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा को अपशब्द भी कहे। छात्र गोस्वामी ने कहा कि न्याय मांगना कहां का अपराध हो गया है? वह न्याय के लिए ही राज्यपाल से मिले थे और उन्होंने भी उनकी मदद के लिए कुलपति को आदेशित किया था, लेकिन इसके बदले उन्हें तो गालियां मिली हीं बल्कि राज्यपाल जैसे संवैधानिक पद पर बैठे व्यक्ति के खिलाफ भी अपशब्द सुनने पड़े, जिसको लेकर वह बहुत ही दुखी हैं। छात्र गोस्वामी ने कहा कि ऐसे प्रोफेसर के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई और विभाग से बर्खास्तगी भी होनी चाहिए।

निर्वाण टाइम्स से प्रोफेसर ने कहा छात्र बना रहा था दबाव, तो कह दिया अपशब्द
निर्वाण टाइम्स संवाददाता को जब पीड़ित छात्र और राज्यपाल राम नाईक को अपशब्द कहे जाने वाला ऑडियो और पत्र मिलता है तो इसकी पड़ताल करने पर टीडी कॉलेज के प्रोफेसर राजेश सिंह से बात की। उन्होंने स्वीकार किया कि यह ऑडियो उनका ही है और जिस छात्र के साथ बातचीत का ऑडियो निर्वाण टाइम्स तक पहुंचा है, वह सही है। छात्र गोस्वामी पास कराने को लेकर दबाव बना रहे थे। बार-बार फोन कर रहे थे। ऐसे में वह झुंझलाकर आपा खो दिए। जब निर्वाण टाइम्स संवाददाता ने प्रोफेसर राजेश सिंह से यह सवाल किया कि अगर छात्र आप पर दबाव बना रहे थे तो इसका मतलब यह नहीं कि राज्यपाल जैसे संवैधानिक पद पर बैठे व्यक्ति के खिलाफ आप अपशब्द बोलिए, इस पर प्रोफेसर कोई जवाब नहीं दे पाए। इतना जरूर कहा कि अब वह इस विषय पर कुछ भी नहीं बोलेंगे जो कहना था कह दिया।
वहीं निर्वाण टाइम्स से फोन पर हुई बातचीत में राज्यपाल राम नाईक ने कहा कि उन्होंने पुनर्मूल्यांकन किए जाने को लेकर कुलपति को आदेश दिया था। अब पुनर्मूल्यांकन से बचने के लिए कोई प्रोफेसर गलत बात कह रहा है तो वह उसकी सोच और मानसिकता को दर्शाता है। उन्होंने छात्र हित देखते हुए पुनर्मूल्यांकन का आदेश दिया था।

प्रोफेसर का आचरण निंदनीय और शर्मसार करने वाला
राज्यपाल राम नाईक और डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा को लेकर अपशब्द कहने वाले प्रोफेसर के खिलाफ कार्रवाई को लेकर आक्रोश व्याप्त हो गया है। उच्च शिक्षा से जुड़े कई प्रोफेसर इस बेलगाम प्रोफेसर राजेश सिंह के खिलाफ कार्रवाई की मांग पर अड़ गए हैं। उनका कहना है कि ऐसा प्रोफेसर जिसके आचरण को छात्र अनुसरण करते हैं और अध्ययन का कार्य जिसके जिम्मे में है, उसका बर्ताव निंदनीय है। राज्यपाल पर की गई अभद्र टिप्पणी के लिए उसे दंडित किया जाए, यह शिक्षा के क्षेत्र में कलंक है। इसको सेवा से बर्खास्त करना ही न्याय होगा।

Continue Reading
Advertisement
Comments
error: Content is protected !!