Connect with us

shamli

कांधला के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के डॉक्टर का रिश्वत मांगते हुए वीडियो हुआ वायरल गर्भवती महिलाओं से डिलीवरी के नाम पर लिए जाते हैं यहां पर पैसे रोजाना डॉक्टर का रिश्वत लेने का मामला सामने आता है अधिकारी सोए हैं कुंभकरण की नींद

Published

on

ब्यूरो रिपोर्ट (विनीत शर्मा शामली)

 

कांधला संवाददाता (फिरोज चौधरी)
शामली के कांधला सामुदायिक स्वास्थ केंद्र के डॉक्टर ने डिलीवरी के नाम की दवाई के नाम पर खुली ली रिश्वत साथ ही वार्ड में सफाई कराने के नाम पर भी ली गई रिश्वत
कांधला के राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में खबर प्रकाशित होने के बाद भी डॉक्टरों ने सबक नहीं लिया उसके बाद भी सरकार को खुली चुनौती दते नजर आ रहे हैं। मरीजों को नहीं दिया जाता है यहां पर टाइम से खाना, इतना ही नही डॉक्टर पर दवाई के नाम पर पैसे लेने के लगाए लोगो ने गंभीर आरोप। डॉक्टर के सामने उस पर आरोप लगाते हुए वीडियो बनाकर वायरल कर दिया गया।


गर्भवती महिला पूरी रात तड़पती रही लेकिन उनको वहां पर देखने वाला कोई डॉक्टर नहीं पहुंचा बे लापरवाह डॉक्टर का यह कोई पहला मामला नहीं है अभी 2 दिन पूर्व भी ऐसा ही एक दवाई के नाम पर पैसे मांगने का मामला हुआ था उससे पहले भी दर्जनों से अधिक मामले इन डॉक्टरों के सामने आ चुके हैं उसके बाद भी यह है खुलेआम अपनी मनमानी करते हुए नजर आ रहे हैं

दरअसल आपको बता दें मामला जनपद शामली के थानाक्षेत्र कांधला के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का है जहां पर आज दर्जनों मरीज ने डॉक्टर पर लगाए रिश्वत लेने के आरोप साथ ही आरोप लगाते हुए डॉक्टर का वीडियो बनाकर वायरल कर दिया गया गर्भवती महिला ने बताया कि वह पूरी रात तड़पती रही लेकिन उसकी तड़प सुनने वाला वहां पर कोई भी दिखाई नहीं दिया और उल्टी सीधी डिलीवरी कर उसको वार्ड रूम में लेटा दिया गया साथ ही मरीजों से दवाई के नाम पर डॉक्टर ने पैसे भी मांगे उसने तो पैसे डॉक्टर को दे दिए लेकिन जिस के पास पैसे नहीं थे तो उनको लंबी लिस्ट बनाकर दवाई की हाथ में पकड़ा दिया गया जो उधार पैसे लेकर बाजार से दवाई लाकर अपने मरीज को दी इतना ही नहीं यहाँ पर मरीजों को टाइम से खाना भी नहीं मिलता और ये कोई आज का नया मामला नहीं है यहां पर रोजाना ऐसे ही मामले सामने आते रहते हैं लेकिन इन डॉक्टर पर कार्यवाही करने वाले अधिकारी कुमकर्णीय नींद सोये हुए है ओर यह डॉक्टर खुलेआम अपनी मनमानी इसी प्रकार करते चले आ रहे हैं मरीजों ने आरोप लगाया कि उनको सुबह से अब कोई खाना भी नहीं मिला है खाने के ठेकेदार से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने बताया कि वह दूध और ब्रेड ही मरीजों को देते हैं जबकि मीनू में अंडा और मक्खन भी लिखा हुआ है लेकिन ठेकेदार मीनू के अनुसार आधी डाइट ही मरीजों तक पहुंचाते हैं अब देखना यह है कि क्या इस खबर को प्रकाशित होने के बाद भी डॉक्टरों पर कार्यवाही की जाती है या फिर हर बार की तरह मामले को ठंडे बस्ते रख दिया जाता है।

Continue Reading
Advertisement
Comments
error: Content is protected !!
E-Paper