Connect with us

Jaunpur

जौनपुर : भाव भक्ति से माॅ मण्डेश्वरी पूरी करती है सारी इच्छा

Published

on

 

संवाददाता : सूरज विश्वकर्मा

मुंगराबादशाहपुर/जौनपुर :- ब्लाक के अंतर्गत बादशाहपुर सुजानगंज रोड स्थित गांव मादरडीह में सैकडों वर्ष पुराना प्राचीन जय माॅ मण्डेश्वरी मंदिर स्थित है। इस मंदिर से कई चमत्कारिक चर्चाएं जुडी है। यहां आने वाले श्रद्वालु भाव भक्ति से कोई इच्छा व मनौती मांगता है तो मां उसे पूरा करती है।अपने भक्तों को न तो निराशा करती है। और न तो खाली हाथ वापस करती है।वह दोनों हाथों से खुशियां लुटाती है। कौन लूट पाता है अथवा कौन नहीं यह उसके भाग्य व कर्मों पर निर्भर है। गांव के बुजुर्गो व जय माॅ मण्डेश्वरी देवी पंचधाम समिति के सदस्यों का कहना है इस मंदिर का निर्माण सैकडों वर्ष पहले किसी राजा ने करवाया था। रख रखाव न होने के कारण मंदिर का दीवार और छत वगैरह टूट गये थे। आज भी देखे तो मंदिर में लगे पत्थरों के छोटे-छोटे अवशेष आस-पास बिखरे हुए मिलेगे।जो उसके अतीत के बनावट को दर्शाते है। इसी मंदिर में बाबा भोले नाथ का शिवलिंग स्थापित है। इसी के पास माॅ मण्डेश्वरी की मूर्ति है। समिति के सदस्यों का कहना है कि गांव का ही एक व्यक्ति मंदिर मे काफी आस्था व विश्वास रखता था। सच्चे मन से भक्ति करने के कारण मुंबई मे घोड दौड के दौरान उसने काफी इनाम जीता था। गांव के ही एक व्यक्ति ने बोरिंग करानी शुरू की। लाख प्रयास के बावजूद भी जब पानी नहीं निकला तब उसने मण्डेश्वरी धाम में जाकर माथा टेका तो फिर क्या था जैसे पानी की धारा धमने का नाम नहीं ले रही थी।इसी तरह से एक व्यक्ति ने धर्मशाला व चबूतरा निर्माण में थोडा सा व्यवधान उत्पन्न किया तो वह किसी विवाद में जेल के सलाखों में चला गया। मंदिर को लेकर ऐसी तमाम चमत्कारिक धटनाएं चर्चा मे है। पहले तो परिसर के आस पास झाड-झंकार व जंगल जैसा दृश्य बना रहता था। बाद में राजाराम सरोज ने व भाई भोलराम सरोज के विशेष सहयोग के साथ ही गांव वालों ने मिलकर माॅ मण्डेश्वरी मंदिर का जीर्णोद्वार करवाकर इसे भव्य स्वरूप प्रदान किया था।मंदिर में स्थापित मूर्तियों भव्यता सजीवता व आकर्षण का केन्द्र बनी हुई है। नवरा़त्र में माॅ के दर्शन के लिए श्रद्वालुओं की भीड उमड पडी है।मछलीशहर संसदीय क्षेत्र से भाजपा धोषित प्रत्याशी बी पी सरोज ने बाचचीत के दौरान कहा कि यह सब कुछ जो हो रहा है माॅ की कृपा से हो रहा है।

Continue Reading
Advertisement
Comments
error: Content is protected !!
E-Paper