Connect with us

NATIONAL NEWS

अमित जानी को नक्सलवादियों ने बम से उड़ा देने की मिली धमकी

Published

on

गिरिडीह : आपको बताते चलते है की अमित जानी पहले अखिलेश यादव के खिलाफ आज़मगढ़ से चुनाव लड़ने का इरादा बनाये हुए थे लेकिन कुछ कारणों से अमित जानी झारखण्ड के गिरिडीह लोकसभा क्षेत्र से नामांकन किया ,नामांकन करने के दिन से ही गिरिडीह के मावोवादी नेताओ नक्सलियों दवारा कभी मारने की कोशिश की जा रही है तो कभी धमकाया जा रहा है कुछ दिन पहले अमित जानी की BMW कार को छतिग्रस्त किया गया था उसके बाद लेटर भेज कर धमकाया जा रहा है

अमित का कहना है कि गिरिडीह की स्थिति सबसे खराब है। यहां देश विरोधी ताकतें सिर उठा रही हैं। इसलिए गिरिडीह से चुनाव लडऩे का निर्णय लिया है। हिंदू समाज की रक्षा के लिए काम कर रहे हैं और आगे भी करेंगे।

मॉब लिंचिंग को लेकर अभिनेता नसीरुद्दीन शाह के बयान को लेकर उत्तर प्रदेश नवनिर्माण सेना के प्रमुख अमित जानी ने शाह के लिए पाकिस्तान का टिकट बुक करा दिया है। जानी ने ये टिकट नसीरुद्दीन शाह के घर भेज दिया है। बता दें कि एक्टर का कहना था कि उन्हें अब भारत में डर लगता है और अपने बच्चों की चिंता होती है।

– अमित जानी ने नसीरुद्दीन शाह के लिए 14 अगस्त, 2019 का मुंबई से कराची का टिकट बुक किया है। उन्होंने कहा है कि अगर उन्हें हिंदुस्तान में डर लगता है तो शाह बिना देरी किए पाकिस्तान जा सकते हैं।
– 14 अगस्त को पाकिस्तान का आजादी दिवस है और 15 अगस्त तक हमारे देश से एक गद्दार कम हो जाएगा।
– उन्होंने तंज कसते हुए ये भी लिखा कि अगर उन्हें डर लग रहा है तो वह हनुमान चालीसा भी पढ़ सकते हैं, क्योंकि अब तो वैसे भी हनुमान जी को मुसलमान बता दिया गया है।
– उन्होंने कहा कि योगी आदित्यनाथ जब गोरखपुर के सांसद थे, तब उन्होंने भी कहा था कि जिसको हिंदुस्तान में डर लगता है वह पाकिस्तान चले जाएं। हम उनका वादा निभा रहे हैं।

कौन हैं अमित जानी

– अमित जानी वही हैं, जिन्होंने लखनऊ और दिल्ली में #Yogi4PM के पोस्टर लगवाए थे।
– इन पोस्टरों में उन्होंने योगी आदित्यनाथ को प्रधानमंत्री बनाने और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को हटाने की मांग की थी।

क्या कहा था नसीरुद्दीन शाह ने

– शाह ने अपने बयान में कहा था कि कई जगहों पर पुलिस अफसर से ज्यादा गाय की हत्या को महत्व दिया जा रहा है।
– शाह ने अपने बेटे की सुरक्षा को लेकर चिंता जाहिर की थी।
– उन्होंने कहा था- जहर फैल चुका है, इस जिन्न को बोतल में बंद करना मुश्किल होगा। कानून को अपने हाथों में लेने की खुली छूट मिल गई है।

हमने अपने बच्चों को मजहबी तालीम नहीं दी

– शाह ने एक इंटरव्यू में कहा था कि मुझे मजहबी तालीम मिली थी। लेकिन रत्ना (पत्नी) को नहीं। वे लिबरल परिवार से आती हैं।
– मैंने अपने बच्चों को मजहबी तालीम नहीं दी, क्योंकि मेरा ये मानना है कि अच्छाई और बुराई का मजहब से कुछ लेना-देना नहीं।
– मुझे इस बात की फिक्र होती है कि हालात जल्दी सुधरते नजर नहीं आ रहे। इन बातों से मुझे डर नहीं लगता, गुस्सा आता है।
– ये गुस्सा हर सही सोचने वाले इंसान को आना चाहिए। ये हमारा घर है, हमें यहां से कौन निकाल सकता है।

विदित हो कि अमित जानी वर्ष 2009 में ‘महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना’ के विरोध करने को लेकर चर्चा में आए थे। इसके बाद लखनऊ में मायावती की मूर्ति को क्षतिग्रस्त करने, राहुल गांधी को काला झंडा दिखाने, कश्मीरियों को उत्तर प्रदेश से निकल जाने की धमकी देने, जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी के छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार और छात्र उमर खालिद को जान से मारने की धमकी देने तथा ताजमहल पर विवादित फोटो सोशल मीडिया पर शेयर करने को लेकर चर्चा में रहे हैं।

Continue Reading
Advertisement
Comments
error: Content is protected !!
E-Paper