Connect with us

NATIONAL NEWS

भारत चीन सीमा विवाद पर राहुल गांधी ने मोदी पर कसा तंज

Published

on

 

नई दिल्ली । लद्दाख में चीनी सैनिकों की कथित घुसपैठ की घटना ने कांग्रेस को मोदी सरकार पर हमला करने का एक मौका दे दिया है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी अब इस मौके का भुनाने में जुट गए हैं। राहुल गांधी ने लद्दाख में चीनी सैनिकों की कथित घुसपैठ से जुड़ी खबरों की पृष्ठभूमि में बुधवार को सवाल किया कि क्या सरकार इसकी पुष्टि कर सकती है कि चीन का कोई सैनिक भारतीय सीमा में दाखिल नहीं हुआ?

दरअसल, राहुल गांधी ने एक खबर का हवाला देते हुए ट्वीट किया- क्या भारत सरकार इसकी पुष्टि कर सकती है कि चीन का कोई सैनिक भारतीय सीमा में दाखिल नहीं हुआ?

उल्‍लेखनीय है कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर लगभग एक महीने से चले आ रहे गतिरोध के संदर्भ में बुधवार को कहा कि पूर्वी लद्दाख में चीनी सैनिक ‘अच्छी खासी संख्या में’ आ गए हैं और भारत ने भी स्थिति से निपटने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए हैं। सिंह ने कहा कि भारत और चीन के वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों के बीच छह जून को बैठक निर्धारित है। इसके साथ ही उन्होंने आश्वस्त किया कि भारत अपनी स्थिति से पीछे नहीं हटेगा। खबरों के अनुसार, एलएसी पर भारत की तरफ गलवान घाटी और पैंगोंग त्सो क्षेत्र में चीनी सैनिक अच्छी-खासी संख्या में डेरा डाले हुए हैं।
वैसे बता दें कि चीन की ओर से भी एक बयान में कहा जा चुका है कि सीमा विवाद के मुद्दे को दोनों देश बातचीत के जरिए सुलझा लेंगे। इससे पहले भी बातचीत के जरिए ऐसा किया जा चुका है। हालांकि, इस बात से अब कोई अंजान नहीं है कि चीन ये हरकत क्‍यों कर रहा है। कोरोना वायरस संक्रमण को दुनियाभर में फैलाने के आरोपों के बीच चीन ने लोगों का ध्‍यान भटकाने के लिए ये रणनीति अपनाई है। हालांकि, अब चीन की ये चाल जगजाहिर हो चुकी है।

वैसे बता दें कि चीन की ओर से भी एक बयान में कहा जा चुका है कि सीमा विवाद के मुद्दे को दोनों देश बातचीत के जरिए सुलझा लेंगे। इससे पहले भी बातचीत के जरिए ऐसा किया जा चुका है। हालांकि, इस बात से अब कोई अंजान नहीं है कि चीन ये हरकत क्‍यों कर रहा है। कोरोना वायरस संक्रमण को दुनियाभर में फैलाने के आरोपों के बीच चीन ने लोगों का ध्‍यान भटकाने के लिए ये रणनीति अपनाई है। हालांकि, अब चीन की ये चाल जगजाहिर हो चुकी है।

Continue Reading
Advertisement
Comments
error: Content is protected !!
E-Paper