Connect with us

NATIONAL NEWS

महाराष्ट्र के अमरावती में पूर्ण लॉकडाउन, आवश्यक सेवाओं की रहेगी अनुमति

Published

on

मुम्बई।महाराष्ट्र में अचलपुर शहर को छोड़कर अमरावती जिले में रविवार को एक सप्ताह का पूर्ण लॉकडाउन लगा दिया गया है। संरक्षक मंत्री यशोमति ठाकुर के मुताबिक, इस दौरान आवश्यक सेवाओं की अनुमति रहेगी। देश के अन्य हिस्सों में कोरोना संक्रमण में कमी आने के विपरीत महाराष्ट्र में मामले बढ़ रहे हैं। इससे पहले गुरुवार को राज्य में कोरोना संक्रमण के 5,427 मामले दर्ज किए गए। इसे देखते हुए विशेषष रूप से प्रभावित अमरावती जिले में सप्ताहांत पर लॉकडाउन लगाने का एलान किया गया है। इसके तहत दुकानें और अन्य प्रतिष्ठान बंद रहेंगे। हालांकि, आवश्यक सेवाओं को इससे छूट दिया गया है। इसके अलावा यवतमाल जिले में स्कूलों को 10 दिनों के लिए बंद कर दिया गया है और लोगों के एकत्रित होने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

शादी समारोहों में सिर्फ 50 लोगों को शामिल होने की इजाजत होगी। जिले में धार्मिक स्थान खुले रहेंगे, लेकिन इन स्थानों पर कोरोना संबंधी प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करना होगा। शोधकर्ताओं ने अमरावती और यवतमाल में दो नए म्यूटेशन का पता लगाया है, जो एंटीबॉडी को निष्क्रिय कर सकता है। हालांकि, किसी भी नमूने में ब्रिटेन, दक्षिण अफ्रीका या ब्राजील का स्ट्रेन नहीं मिला है। प्रदेश के कई जिलों में पहले की तुलना में कोरोना के मामले बढ़ें हैं। देश के कई राज्यों में कोरोना वायरस फिर तेजी से पांव पसारने लगा है। पिछले कुछ दिनों से केरल, महाराष्ट्र, पंजाब, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते दैनिक आंकड़ों ने सरकार को चिंता में डाल दिया है। इन राज्यों के चलते पिछले 22 दिनों में शनिवार को पहली बार करीब 14 हजार नए मामले सामने आए और 100 से ज्यादा लोगों की मौत हुई।
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को कहा कि केरल में तो रोजाना सबसे ज्यादा मामले आ ही रहे थे, पिछले हफ्ते से महाराष्ट्र में भी ज्यादा मामले मिलने लगे हैं। इसी तरह छत्तीसगढ़, पंजाब और मध्य प्रदेश में भी मामले बढ़े हैं। पिछले 24 घंटों के दौरान महाराष्ट्र में छह हजार से अधिक और केरल में करीब पांच हजार नए मामले मिले हैं। इस दौरान छत्तीसगढ़ में 259, पंजाब में 383 और मध्य प्रदेश में 297 मामले सामने आए हैं। मध्य प्रदेश में 13 फरवरी के बाद से ही नए मामलों में वृद्धि हो रही है।

Continue Reading
Advertisement
Comments
error: Content is protected !!