Connect with us

Deoria

फरियादी को ही पुलिस ने भेज दिया जेल

Published

on

तरकुलवा थानाक्षेत्र के हरैया निवासी वादी ने पुलिस अधिक्षक को शिकायती पत्र लिखकर लगाया आरोप

निर्वाण टाइम्स

गढ़रामपुर (देवरिया)। यूं तो खाकी अपने कारगुजारियों के लिए अक्सर सवालों के घेरे में रहती है। मगर इन दिनों तरकुलवा पुलिस अपने अजब-गजब खेल को लेकर चर्चा में है। तरकुलवा पुलिस द्वारा पशुओं के चारे के लिए रखे गए पुआल एवं छप्पर निर्माण के खातिर रखे हुए पतहर में आग लगाकर नष्ट करने की सूचना देकर डायल 112 पुलिस को बुलाने वाले एक नाबालिग फरियादी को ही जेल भेजने का मामला प्रकाश में आया है । इस मामले में जेल की हवा खा चुके फरियादी के पिता ने तरकुलवा के थानाध्यक्ष सहित पुलिस अधीक्षक को शिक़ायत देकर न्याय की गुहार लगाई है ।
तरकुलवा थानाक्षेत्र के हरैया गांव निवासी राम प्रवेश धोबी पुत्र दीनानाथ धोबी ने पुलिस अधीक्षक को दिए शिकायती पत्र में आरोप लगाया है कि 24 दिसंबर को सायं 7 बजे के करीब मेरा 17 वर्षीय बेटा शुभम शौच के लिए अपने खेत की ओर जा रहा था । इसी दौरान उसने देखा कि पशुओं के चारे के लिए रखा गया पुआल एवं छप्पर बनाने के लिए पतहर औऱ आस पास के पेड़ पौधे धू धू करके जल रहा है । जब वह मौके पर पहुंचा तो वहां गांव का ही एक युवक खड़ा था । बतौर शिकायतकर्ता जब उसके बेटे ने उक्त युवक से आग लगाने का कारण पूछा तो वह भद्दी भद्दी गलियां देते हुए मारने के लिए दौड़ा लिया । शुभम भगाते हुए घर आकर डायल 112 पुलिस को सूचना देकर मौके पर बुलाया । मौके पर पहुंचीं पुलिस ने शुभम तथा उक्त युवक को थाने ले गई । रात भर दोनों को थाने में रखी । शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया है कि सुबह सत्ताधारी दल के कुछ लोग मेरे लड़के पर सुलह के लिए दबाव बनाए । जब मेरा लड़का सुलह के लिए राजी नहीं हुआ तो पुलिस ने सत्ता के दबाव में मेरे नाबालिग लड़के को जेल भेज दिया। इस संबन्ध में पूछे जाने पर थानाध्यक्ष प्रदीप शर्मा ने बताया कि आरोप ग़लत है । दोनों लड़के किसी बात को लेकर झगड़ा किए थे । जब दोनो ने समझौता नहीं किया तो दोनो को शांति भंग में चलान कर दिया गया।

Continue Reading
Advertisement
Comments
error: Content is protected !!