Uncategorised

मुंबई : लोकतंत्र के चौथे स्तंभ का मददगार बने नगरसेवक मदन सिंह

संवाददाता : एसपी पांडेय

मुंबई। वैश्विक महामारी कोरोना के प्रादुर्भाव को नियंत्रित करने के लिए समूचे देश, महाराष्ट्र तथा मुंबई की भांति मीरा-भायंदर में भी पिछले दो महीने से जारी लॉकडाउन के चलते कारोबारी तथा रोजी-रोजगार की गतिविधियां पूरी तरह से ठप होने के कारण समूचे क्षेत्र में त्राहिमाम की स्थिति बनी हुई है। अमीरों ने तो खुद को संभाल रखा है, जबकि गरीब जरूरतमंदों की हरसंभव मदद की कोशिश में शासन-मनपा प्रशासन तथा तमाम समाजसेवी एवं सामाजिक संगठन जुटे हुए हैं। सबसे बुरी स्थिति मध्यमवर्गीय परिवारों की है, जिनकी हालत “कहा भी न जाए, और सहा भी न जाए” वाली बनी हुई है। इसी श्रेणी में आने वाले छोटे तथा मझोले समाचार पत्रों तथा सोशल मीडिया के पत्रकारों, कुछ चुनिंदा को छोड़कर, की सुध लेने की जरुरत कुछ अपवादों को छोड़कर शासन-प्रशासन, जनप्रतिनिधियों तथा सामाजिक संगठनों ने अब तक नहीं की है। भाजपा के वरिष्ठ नगरसेवक मदन उदितनारायण सिंह ने मध्यमवर्गीय परिवारों से ताल्लुक रखने वाले पत्रकारों का मर्म पहचाना, तथा अपने नेतृत्व वाली संस्था उत्तर भारतीय जनसेवा संघ के बैनर तले शहर के पत्रकारों के घर-घर जाकर उन्हें खाद्यान्न सामग्री के किट्स उपलब्ध कराने तथा उनके जज्बे की सराहना करने का प्रयास जारी रखा है। बातचीत के दौरान नगरसेवक तथा उत्तर भारतीय जनसेवा संघ के अध्यक्ष मदन उदित नारायण सिंह ने कहा कि लोकतंत्र के चौथे स्तंभ कहे जाने वाले पत्रकारों ने कोरोना के विरुद्ध लड़ी जा रही इस जंग में अहम भूमिका निभाई है। कोरोना के शहर समेत समूचे देश की वर्तमान स्थिति, शासन-प्रशासन के प्रयासों से लेकर आम नागरिकों को जागरूक करने में पत्रकारों का अहम योगदान है। यह सही मायने में कोरोना वॉरियर्स की भूमिका निभा रहे हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना लॉकडाउन शुरू होने के साथ ही उत्तर भारतीय जनसेवा मंच द्वारा गरीब, जरूरतमंद परिवारों को खाद्यान्न, दवाईयां तथा अन्य जीवनावश्यक वस्तुएं निरंतर निःशुल्क मुहैया कराई जा रही हैं। हमारा प्रयास है कि लॉकडाउन के दौरान शहर में कोई व्यक्ति भूखा न रहने पाए। उन्होंने सक्षम लोगों से अपील की है कि कोरोना की इस जंग में अपना दायित्व निभाते हुए वे उत्तर भारतीय जनसेवा संघ के साथ जुड़ें और सहयोग करें, ताकि जरूरतमंदों की मदद को और भी प्रभावी ढंग से गति दी जा सके। उन्होंने तमाम सामाजिक संगठनों से भी पत्रकारों तथा अन्य जरूरतमंदों की मदद के लिए आगे आने का आह्वान किया है। संस्था के युवा प्रकोष्ठ के अध्यक्ष ज्ञानेंद्र सिंह ने बताया कि पिछले 15 सालों से उत्तर भारतीय जन सेवा संघ सामाजिक, सांस्कृतिक, आर्थिक, शैक्षणिक एवं स्वास्थ्य जैसे क्षेत्रों में अपना योगदान दे रही है। उन्होंने बताया कि कोरोना संकटकाल में समूचे मीरा-भायंदर में संस्था द्वारा हजारों जरूरतमंद परिवारों को मदद पहुंचाई जा चुकी है, और यह कार्य अनवरत जारी है। संस्था की महिला प्रकोष्ठ की अध्यक्षा रंजू झा भी अपनी महिला सदस्यों की टीम के साथ इस आपदा की घड़ी में लोगों की मदद में जुटी हुई हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button