Connect with us

Jaunpur

जौनपुर : भदेठी कांड पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सख्त, आरोपियों पर NSA समेत गैंगस्टर एक्ट लगाने के आदेश

Published

on

सरायख्वाजा SHO  के खिलाफ विभागीय कार्यवाही का निर्देश

ब्यूरो रिपोर्ट : हिमान्शु श्रीवास्तव
जौनपुर : बच्चों के मामूली विवाद में दो समुदायों में भिड़ंत आगजनी होने के बाद दलितों का घर जलाने के मामले में सीएम योगी आदित्यनाथ बेहद नाराज हैं। उन्होंने दलितों के घर जलाने के सभी आरोपियों के खिलाफ तत्काल रासुका के तहत मुकदमा दर्ज करने के साथ ही सख्त कार्रवाई का निर्देश दिया है।
भदेठी गांव में दलितों के घर फूंकने की इस घटना पर सीएम योगी आदित्यनाथ बेहद सख्त हैं। उन्होंने दलितों के घर फूंकने के मुख्य आरोपी नूर आलम और जावेद सिद्दीकी समेत सभी आरोपियों पर तत्काल रासुका समेत गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्यवाही का आदेश दिया है। मुख्यमंत्री ने इसके साथ ही वहां पर तत्काल स्थिति नियंत्रण में न करने पाने के दोषी SHO के खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई का निर्देश दिया है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि जिनके घर जलाए गए हैं उन सभी पीड़ित दलितों को तत्काल सीएम या पीएम आवास समेत अन्य सरकारी हर सम्भव मदद दी जाए।साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पीड़ित परिवारों के नुकसान की भरपाई के लिए मुख्यमंत्री पोडित सहायता कोष से दस लाख छब्बीस हजार चार सौ पचास (10,26,450) रुपये की आर्थिक सहायता दिए जाने की घोषणा भी की।

ज्ञातव्य हो कि मंगलवार देर शाम सरायख्वाजा थाना क्षेत्र के भदेठी गांव में बच्चों के मामूली विवाद बीच दो वर्गों के बीच जमकर संघर्ष हुआ। इसके बाद हमलावरों ने अनुसूचित जाति की बस्ती में पिटाई, तोडफ़ोड़ व भयंकर आगजनी की। इस मामले में 58 नामजद व 100 अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने 35 आरोपितों को गिरफ्तार किया था। घटना को लेकर तनाव के चलते गांव पुलिस छावनी में तब्दील हो गया है। बुधवार की दोपहर वाराणसी मंडल के आयुक्त दीपक अग्रवाल व आइजी विजय सिंह मीणा ने स्थिति का जायजा लिया। इन सभी ने पीडि़तों को दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने व नुकसान के भुगतान का आश्वासन दिया। इस वहीं घटना के बाद पुलिस की कार्रवाई से डरे-सहमे वर्ग विशेष कर अधिकतर पुरुष सदस्य गांव से पलायन कर गए हैं।
भदेठी गांव का शहबाज (13) बाग में अपने पेड़ से आम तोडऩे गया था। वहां तालाब के पास बकरियां चरा रहे अनुसूचित जाति बस्ती के बच्चों से किसी बात को लेकर विवाद हो गया। शहबाज ने घर जाकर स्वजनों को घटना की जानकारी दी। पूछताछ के दौरान स्वजनों व अनुसूचित जाति बस्ती के लोगों में मारपीट हो गई। इसमें लारेब,हबीब,फ्लावर,नबील, जख्मी हो गए। इसके बाद गांव के प्रधानपति आफताब उर्फ हिटलर ने मामला शांत करा दिया। आरोप है कि इसके बाद रात करीब साढ़े आठ बजे विशेष समुदाय के सैकड़ों लोगों ने लाठी-डंडे से लैस होकर अनुसूचित जन जाति बस्ती पर धावा बोला। हमले में रवि, पवन, अतुल आदि घायल हो गए। इस दौरान आगजनी में जितेंद्र,नेबुलाल,नंदलाल,फिरतू, राजाराम, सेवालाल सहित बस्ती के एक दर्जन से अधिक लोगों के मड़हे घर व खाद्यान समय अन्य कीमती सामान जल गए। इसके साथ ही कई वाहन क्षतिग्रस्त हो गए। आग की चपेट में आने से तीन बकरियां व एक भैंस जिंदा जल गईं थी।

Continue Reading
Advertisement
Comments
error: Content is protected !!
E-Paper