Basti

जेई, एक्सईएन दे रहे हैं चीफ इंजीनियर एवं डीएम को झांसा

 

बस्ती( रुबल कमलापुरी)। जिले के विद्युत विभाग के अधिकारी अपने ही अधिकारी को गुमराह करने से नहीं चूक रहे हैं। मनमानी का आलम यह है कि जेसीबी मशीन से टूटे खंभे को आंधी तूफान में टूटने कि बात कहकर जेई और एक्सईएन अपने उच्चाधिकारियों यहां तक तेजतर्रार डीएम आशुतोष निरंजन को भी गुमराह करने से नहीं चूक रहे हैं। मामला हरैया क्षेत्र के ग्राम कठौवा का है जहां 29 फरवरी 2020 को जेसीबी मशीन से बिजली के 3 खंभे टूटे थे। इसकी शिकायत ग्रामीणों ने तत्काल 112 नंबर पर काल करके पुलिस को सूचना दिया था। सूचना पाकर मौके पर पुलिस टीम पहुंची भी और जानकारी लेकर मौका मुआवना कर चली गई। यह सूचना ग्रामीणों ने क्षेत्र के जेई को भी दिया लेकिन उन्होंने मामले की लीपापोती करने से बाज नहीं आए। विद्युत विभाग का यह जेई अपनी कार्यशैली के लिए काफी चर्चित हैं। और अपने उसी हथकंडे को अपना कर मामले को लीपापोती करते रहे। इस मामले में जिलाधिकारी बस्ती आशुतोष निरंजन ने भी कई बार विद्युत विभाग के अधिकारियों को निर्देशित कर कार्यवाही करने का निर्देश दिया था बावजूद इसके सभी को विद्युत विभाग के अधिकारी गलत जानकारी देकर गुमराह करते रहे। यह मामला जब सीएम पोर्टल पर दर्ज कराया गया तो चीफ इंजीनियर ने मामले में संज्ञान लिया। लेकिन जेई और एक्सईएन विद्युत के जेहन में जरा सा भी खौफ नहीं आया और गलत जानकारी दी। इस बार तो हद तब हो गई जब विद्युत विभाग के एक्सईएन ने चीफ इंजीनियर को गुमराह करते हुए बताया गया की ग्रामीण खंबा नहीं लगाने दे रहे हैं और एलएनटी कंपनी अभी वहां विद्युतीकरण कर रही है। किसी भी ग्रामीण को गांव में कनेक्शन नहीं दिया गया है। जबकि ग्रामीण बिजली का उपयोग भी कर रहे हैं और उसका बिल भी जमा कर रहे हैं। एक्सईएन की बातों पर गौर करें तो यहां बिना कनेक्शन के ही विद्युत विभाग बिजली का बिल वसूल कर रहा है। यदि ऐसा है तो बिजली का बिल जमा होने के बाद कहां जा रहा है। इस संबंध में जब इस संवाददाता ने विद्युत विभाग के एक्सईएन से फोन पर आगे बात किया तो उन्होंने बताया कि खंभा आंधी तूफान में टूटा है कोई कनेक्शन इस गांव में नहीं दिया गया है। जबकि सच्चाई यह है कि फरवरी 2020 में ना तो कोई आंधी आई ना ही तूफान हो सकता है एक्शन साहब खंभा तोड़ने के लिए आंधी तूफान ले आए हो उनकी बातों को सुनने वाला हर कोई हंस रहा है। आंधी तूफान फरवरी 2020 के बाद आए हैं। खंभा टूटने की पुष्टि पुलिस विभाग का 112 नंबर भी कर रहा है जिस पर ग्रामीणों ने शिकायत की और पुलिस टीम मय वाहन के साथ मौके पर पहुंची। 112 कंट्रोल रूम द्वारा दर्ज की गई शिकायत संख्या P2UP32DG08439022002237 है। और सीएम पोर्टल पर अशोक वर्मा द्वारा की गई शिकायत संख्या40018520011007 है। इसके बाद भी विद्युत विभाग के अधिकारी ना तो खंभा लगाए ना ही खंभा तोड़ने वालों के विरुद्ध मुकदमा ही दर्ज कराया। और तो और जेई और एक्सईएन चीफ इंजीनियर से लेकर डीएम को झांसा देकर गुमराह करते रहे हैं। जिससे यह साफ जाहिर हो रहा है कि विद्युत विभाग के अधिकारी मुकदमा दर्ज कराने और खंभा लगाने की बजाय पूरे मामले को गलत साबित करने के लिए सभी को गुमराह कर रहे हैं। जेई और एक्सईएन अपने चीफ इंजीनियर को ही केवल गुमराह नहीं किए हैं बल्कि जिले के तेजतर्रार माने जाने वाले जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन को भी नहीं बख्शे उन्हें भी गलत जानकारी देकर गुमराह कर दिया है। आखिर विद्युत विभाग के अधिकारी कब तक ऐसा करते रहेंगे उन पर कोई कार्यवाही नहीं होगी जिसका खामियाजा विद्युत उपभोक्ताओं को भुगतना पड़ेगा देर शाम जेई कठौवा गांव पहुंचकर खंभे को तोड़ने वाले दबंगों को बचाने के लिए उनके ही सगे संबंधी बयान के नाम आज पूछ कर अपनी डायरी में दर्ज किया है। और दबंगों से कहा कि एक्स ई एन साहब सभी का बयान मांग रहे हैं उनको मामले को दबाने के लिए अधिकारियों को भेजना है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button