Jaunpur

जौनपुर : सत्ता के नशे में गुंडागर्दी ,थाने में ड्यूटी के दौरान पुलिस कर्मी से किया दुर्व्यवहार दो के खिलाफ मुकदमा दर्ज

संवाददाता : सूरज विश्वकर्मा
मुंगराबादशाहपुर/जौनपुर :- मुंगराबादशाहपुर थाना परिसर में शनिवार की शाम सत्ता के नशे में धुत होकर थाने में संतरी की ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी ओम प्रकाश मिश्रा के साथ कई पुलिसकर्मियों के सामने दुर्व्यवहार करने एवं धमकी दिए जाने का मामला प्रकाश में आया है। मिली जानकारी के अनुसार मुंगराबादशाहपुर थाने में तैनात कांस्टेबल ओम प्रकाश मिश्रा ने थानाध्यक्ष को दी गई तहरीर में बताया है कि दिनांक 09 मई 2020 को समय शाम को वावर्दी दुरूस्त संतरी पहरे पर ड्यूटी कर रहा था। समय वह सतर्कता के साथ खड़ा था कि एक व्यक्ति रोहन पाण्डेय बिना मास्क लगाएं थाना परिसर में घुस कर अंदर जाने लगा, जिसे बिना मास्क लगाएं अंदर जाने से रोका गया तो वह आग बबूला हो अपशब्दों का प्रयोग करते हुए हाथापाई करते हुए धमकी देने लगा। पीड़ित पुलिसकर्मी ने बताया है कि रोहन पाण्डेय के साथ नीरज तिवारी एडवोकेट भी धमकी देने लगा कि मुंगराबादशाहपुर थाना में रहना है कि नहीं पीड़ित पुलिसकर्मी ओम प्रकाश मिश्रा की तहरीर पर थानाध्यक्ष ने आरोपी रोहन पाण्डेय एवं नीरज तिवारी एडवोकेट के विरुद्ध अपराध संख्या 0118 /2020 धारा 332 ,353 ,504 ,506 एवं महामारी अधिनियम 1897 की धारा संख्या 3 के तहत मुकदमा पंजीकृत कर विवेचना की जिम्मेदारी उप निरीक्षक नंद कुमार शुक्ला को सौंप दिया है । बताया जाता है कि मुंगराबादशाहपुर थाना पुलिस ने अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु रात को कई जगह दबिश देकर उन्हें गिरफ्तार करने का प्रयास किया। लेकिन उसका कहीं अता पता नहीं चला। अब सवाल उठता है कि जब पुलिसकर्मियों के साथ दुर्व्यवहार हो रहा है तो आम जनता पर होना लाजमी है। उक्त घटना से थाना प्रभारी के सामने सवालिया प्रश्न बनाकर खड़ा कर दिया है कि जब पुलिसकर्मी ही सुरक्षित नहीं है तो आम जनता कैसे सुरक्षित रहेगी ?फिलहाल लेकिन समाचार लिखे जाने तक पुलिस अभियुक्तों को गिरफ्तार नहीं कर सकी थी। चश्मदीद के अनुसार जब आरोपी रोहन पांडे तैनात पुलिसकर्मी को शब्द शब्द बोल रहा था तो उस समय काफी पुलिसकर्मी वहां पर मौजूद थे लेकिन सत्ता की हनक ने उन्हें मूक दर्शक बनने पर मजबूर कर दिया। सूत्रों से मिली जानकारी आरोपी एक दिग्गज नेता का खास बताया जाता है। फिलहाल ऐसी घटना पूरे क्षेत्र में चर्चाए आम बनी हुई हैं। अब देखना है कि क्या मुंगरा पुलिस अपने कर्तव्य को निर्वाहन करते हुए पीड़ित कांस्टेबल ओम प्रकाश मिश्रा को इंसाफ दिला पाएगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button