Uttar Pradesh

डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक से की शिकायत तो पीड़ित को तत्काल मिली मदद

निजी अस्पताल ने लौटाया पूरा पैसा

लखनऊ।डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक के मामला संज्ञान में लेते ही फैजुल्लागंज निवासी प्यारी देवी को बड़ी राहत मिली है। सीतापुर रोड पर स्थित एक निजी अस्पताल ने पथरी के ऑपरेशन के नाम पर 20 हजार रुपये जमा करा लिया और ऑपरेशन भी नहीं किया। इसके बाद जब पीड़ित ने अपना पैसा मांगा तो अस्पताल के कर्मी धमकी देने लगे। डिप्टी सीएम एवं स्वास्थ्य मंत्री ब्रजेश पाठक के मामला संज्ञान में लेने के बाद ढाई घंटे में एक्शन में हो गया। अस्पताल प्रशासन ने मरीज के परिवारीजन से माफी मांग कर 20,000 रुपया वापस कर दिया।
मड़ियांव स्थित निजी अस्पताल में इलाज के नाम पर अधिक रुपये वसूलने का मामला सामने आया है। मंगलवार को मरीज के परिवारजनों ने सामाजिक कार्यकर्ता से इसकी शिकायत की। इस पर कार्यकर्ता ने ट्वीट के माध्यम से उप मुख्यमंत्री व स्वास्थ्य मंत्री से मामले की शिकायत की। फटकार के बाद अस्पताल प्रशासन ने पीड़ित को 20 हजार रुपये वापस कर दिए।

पिछले दो माह से गोंडा निवासी राम प्यारी पेट में दर्द की समस्या से जूझ रही है। स्थानीय अस्पताल में इलाज कराने के बाद भी कोई फायदा नहीं हुआ। परिवारजन 24 मार्च को मरीज को लेकर केजीएमयू ट्रामा सेंटर पहुंचे। यहां बेड खाली न होने की वजह से उन्हें भर्ती नहीं किया गया। दलालों के चंगुल में आने के बाद मरीज को मड़ियांव स्थित निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। यहां जांच के बाद डाक्टर ने गुर्दे में पथरी होने की बात बताई। आपरेशन में करीब 35 हजार रुपये खर्चा बताया। मरीज के भाई दिलीप ने बताया कि डाक्टर ने 35 हजार रुपये जमा करा लिए। उसके बाद डाक्टर ने जांच के बाद गुर्दे की नली में रुकावट की बात कही। जिसके आपरेशन के लिए 45 हजार रुपये और मांगे गए। रुपये के अभाव में परिजनों ने पैसे देने से मना कर दिया। बिना भुगतान करने पर डाक्टर ने इलाज करने से रोक दिया। बिल के भुगतान के लिए दबाव भी बनाया गया।

उप मुख्यमंत्री व स्वास्थ्य मंत्री से की शिकायतः मरीज के घर वालों ने फैजुल्लागंज में सामाजिक कार्यकर्ता ममता त्रिपाठी को मामले की जानकारी दी। उन्होंने ट्वीट के माध्यम से पूरे मामले की जानकारी उप मुख्यमंत्री व स्वास्थ्य मंत्री बृजेश पाठक को दी। ममता त्रिपाठी के मुताबिक, ट्वीट के बाद स्वास्थ्य विभाग ने मामले का संज्ञान लिया। जहां अस्पताल प्रशासन ने मरीज को करीब 20 हजार रुपये वापस देने के बाद मरीज को डिस्चार्ज कर दिया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button