National

राणे ने एमएसएमई क्षेत्र को आगे बढ़ाने के लिए ठोस प्रयास करने का किया आह्वान

 

नई दिल्ली ,12 अक्टूबर (आरएनएस)। केन्द्रीय एमएसएमई मंत्री  नारायण राणे ने एमएसएमई मंत्रालय के अधिकारियों को एमएसएमई क्षेत्र का उत्पादन बढ़ाने के लिए तैयार रहने के लिए प्रोत्साहित किया है। मंत्री ने स्पष्ट रूप से कहा कि वह इस क्षेत्र के कार्य निष्पादन में भारी उछाल देखना चाहते हैं, जिसके लिए मंत्रालय के सभी वर्गों को मिलकर काम करना होगा। उन्होंने समाज की बेहतरी के लिए मंत्रालय द्वारा समग्र रूप से खर्च बढ़ाने का आह्वान किया।  राणे ने एमएसएमई क्षेत्र के माध्यम से भारत के निर्यात में भारी उछाल की संभावना की ओर इशारा किया, जिससे उच्च सकल घरेलू उत्पाद प्राप्त किया जा सकता है। एमएसएमई मंत्री आज नई दिल्ली में एनएसआईसी, एनवीसीएफएल और एसवीएल के अधिकारियों द्वारा अंशदान समझौते पर हस्ताक्षर करने के अवसर पर संबोधित कर रहे थे। उनके साथ एमएसएमई में राज्य मंत्री  भानु प्रताप सिंह वर्मा, मंत्रालय में सचिव  बी बी स्वैन,  एनएसआईसी के सीएमडीऔर एनवीसीएफएल की अध्यक्ष सु अलका अरोड़ा और एसवीएल के प्रबंध निदेशक और सीईओ,   के. सुरेश भी थे। प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी की परिकल्पना के अनुरूप, वित्त मंत्री ने वृद्धि पूंजी हासिल करने में एमएसएमई के सामने मौजूद भारी कमी को दूर करने के लिए आत्मनिर्भर भारत पैकेज के तहत सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों के लिए फंड ऑफ फंड्स बनाने की घोषणा की थी। नतीजतन, एमएसएमई मंत्रालय के अंतर्गत भारत सरकार के एक मिनी रत्न निगम- राष्ट्रीय लघु उद्योग निगम लिमिटेड – एनएसआईसीकी 100त्न सहायक कंपनी एनएसआईसी वेंचर कैपिटल फंड लिमिटेड (एनवीसीएफएल)को शामिल किया गया था। एनवीसीएफएल नेआत्मनिर्भर भारत कोष (एसआरआई कोष) को मजबूत बनाया जिसका उद्देश्य 10,006 करोड़ रुपये के लक्ष्य कोष और पूंजी, आभासी पूंजी और ऋण के माध्यम से वृद्धि पूंजी के रूप में एमएसएमई की प्रगति का प्रावधान करने के लिए उद्यमकोष का समर्थन करना था जिसकी एआईएफ नियामक के अंतर्गत इजाजत दी गई है। अन्य बातों के साथ-साथ, इस कोष को संस्थागत निवेशक और प्रायोजक के रूप में एनएसआईसी द्वारा एमएसएमई मंत्रालय में निवेश किया जाएगा। एसबीआईसीएपीवेंचर्स लिमिटेड (एसवीएल) कोनिवेश प्रबंधक के रूप में और खेतान एंड कंपनी को एनवीसीएफएलके कानूनी सलाहकार के रूप में नियुक्त किया गया है। एनवीसीएफएल नेनिवेश की जानकारी देने वाले संभावित निवेशकों को दिए जाने वाले दस्तावेज- प्राइवेट प्लेसमेंट मेमोरेंडम (पीपीएम) को भारतीयप्रतिभूति और विनिमय बोर्ड केरिकॉर्ड में रखा है ताकि एसआरआई कोष को श्रेणी ढ्ढढ्ढ वैकल्पिक निवेश कोष के रूप में पंजीकृत किया जा सके जिसे सेबी ने 1 सितंबर 2021 को पंजीकृत किया था।
एसआरआई कोष एमएसएमई क्षेत्र की इक्विटी निधीयन चुनौतियों का समाधान करेगा और उन्हें अपनी बाधाओं को तोडऩे, निगमीकरण को प्रोत्साहित करने और वैश्विक चैंपियन बनने के लिए अपनी पूर्ण अंतर्निहित क्षमता को विकसित करने की अनुमति देगा। सरकारी हस्तक्षेप के साथ, कोष विभिन्न प्रकार के कोषों को अपर्याप्त सेवा वाले एमएसएमई में दिशा देने और व्यवहार्य और उच्च विकास वाले एमएसएमई की वृद्धिजरूरतों को पूरा करने में सक्षम होगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button