HardoiUttar Pradesh

उपजिलाधिकारी द्वारा नामित सभासदों को पद व गोपनीयता की शपथ दिलाई गई

 

कछौना, हरदोई ( अनुराग गुप्ता ) नगर पंचायत कछौना पतसेनी के चहुमुखी विकास के लिए शासन द्वारा नगर के पूर्व मंडल अध्यक्ष भाजपा ब्रह्म कुमार सिंह, युवा भाजपा नेता राधारमण शुक्ला उर्फ पंकज शुक्ला, पूर्व जिला महामंत्री डॉ सुशील गुप्ता की पत्नी अनीता गुप्ता को सभासद के पद पर मनोनीत किया गया।

जिन्हें सोमवार को ब्लॉक संसाधन केंद्र पर पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई गई। सभासदों के नामित होने पर नगरवासियों व समर्थकों में खुशी की लहर दौड़ गई। इस अवसर पर विधायक रामपाल वर्मा ने सभी नामित सभासदों को उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं दीं और कहा कि आप सभी नगर पंचायत कछौना की बोर्ड के साथ कदम से कदम मिलाकर नगर के विकास के लिए सरकार की मंशा के अनुरूप कार्य कर नगर को आदर्श नगर बनाने में योगदान करें।

उप जिलाधिकारी मनोज कुमार श्रीवास्तव ने नामित सभासदों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि सरकार की योजनाओं द्वारा आमजनमानस को लाभ पहुंचाते हुए मुख्य धारा में जोड़ने का कार्य कर एक अच्छे जनप्रतिनिधि का परिचय दें। नामित सभासद ब्रह्म कुमार सिंह ने कहा कि नगर की प्रमुख समस्या जल निकासी की है। वह इसके लिए सभासद बोर्ड व राजस्व कर्मियों के साथ बैठकर इस समस्या के लिए प्रयास करेंगे।

युवा भाजपा नेता पंकज शुक्ला ने कहा कि जनता से जुड़ी समस्या जल, सड़क, बिजली, साफ-सफाई के लिए सदैव प्रयासरत रहेंगे। मुख्य नगर में युवाओं के लिए रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के लिए प्रयासरत रहेंगे। नामित सभासद महिला अनीता गुप्ता ने कहा कि मेरी प्राथमिकता महिलाओं की बेहतरी के लिए सदैव प्रयासरत रहूंगी। कस्बे की महिलाओं के लिए एक बालिका इंटर कॉलेज के लिए प्रयास करूंगी।

यह नामित सदस्य जाति, धर्म, दल से ऊपर उठकर नगर के विकास के लिए कार्य करेंगे जिससे लोगों को जन सुविधाएं मिल सकें। इस अवसर पर नगर पंचायत की अध्यक्ष मीनू, नगर पंचायत प्रतिनिधि विकास विश्वकर्मा उर्फ गोल्डी, अधिशासी अधिकारी डॉ प्रकाश गोपालन, सभासद गण, लिपिक जय बहादुर सिंह, मंडल अध्यक्ष भाजपा नवीन पटेल, मंडल अध्यक्ष युवा मोर्चा मयंक सिंह, व्यापार मंडल उपाध्यक्ष क्रांतिवीर सिंह उर्फ रैना भैया, युवा व्यापार मंडल अध्यक्ष रवि गुप्ता, इंडियन रोटी बैंक के अध्यक्ष विनय शुक्ला, रानू अग्रवाल, अवधेश रावत सहित प्रमुख गणमान्य लोग शामिल हुए। कछौना के कुछ बुद्धिजीवियों ने सामान्य वर्ग से तीनों सभासद नामित होने पर सरकार की मंशा पर प्रश्नचिन्ह उठाया। आखिर पूर्ववर्ती प्रक्रिया में क्यों बदलाव किया गया? जबकि सरकार की मंशा “सबका साथ – सबका विकास” है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button