Lakhimpur-khiri

थारू आदिवासी गांवों में पहुंचे मंडलायुक्त,किया निरीक्षण

 

चंदनचौकी के ग्राम धुसकिया मे किया पैदल भ्रमण

ग्राम धुसकिया मे एएनएम सेंटर का किया निरीक्षण,दिये आवश्यक दिशा निर्देश

थारू गांव चंदन चौकी पहुंचकर मंडलायुक्त ने किया निरीक्षण

मंडलायुक्त ने हथकरघा उद्योग केन्द्र का भी किया निरीक्षण

पलियाकलां-खीरी ( एस.पी.तिवारी/धीरज गुप्ता) मंडलायुक्त मुकेश मेश्राम ने रविवार को थारू आदिवासी गांवों में पहुंचे।इस दौरान उन्होंने आदिवासी थारू जनजाति क्षेत्र के एकीकृत जनजाति विकास परियोजना कार्यालय का निरीक्षण किया साथ ही वहां चलाई जा रही योजनाओं की जानकारी हासिल की।उन्होंने स्वीकृत डिग्री कॉलेज, स्वास्थ्य केंद्र, स्टेडियम आदि के बारे में भी अधिकारियों से वार्ता की और दिशा निर्देश दिए।उन्होंने कौशल विकास योजना के प्रशिक्षण केंद का निरीक्षण किया और थारू हथकरघा उद्योग द्वारा निर्मित वस्तुओं कि बिक्री के लिए जिला मुख्यालय पर स्टाल लगवाए जाने के निर्देश दिए।रविवार को थारू गांव में पहुंचे मंडलायुक्त ने डीएम शैलेंद्र सिंह के साथ इलाके का निरीक्षण किया।इस दौरान उन्होंने पंचायत राज विभाग और नगर पालिका को निर्देश दिया कि वह साफ सफाई अभियान युद्ध स्तर पर चलाएं। स्वास्थ्य विभाग की टीमें लगातार काम कर रही हैं या नहीं, कोरोना वायरस टीमें घर घर जाकर सर्वे कर रही हैं या नहीं। संचारी रोग नियंत्रण को लेकर भी चलाए जा रहे कार्य की बाबत जानकारी हासिल की। उन्होंने कहा कि लोग लॉकडाउन का पालन करें और घरों में ही रहे। मंडलायुक्त ने बाढ़ से बचाव के सभी काम तेजी से पूरे करने के निर्देश दिए। चंदन चौकी पहुंचे मंडलायुक्त ने कौशल विकास योजना के तहत संचालित प्रशिक्षण केंद्र में कंप्यूटर, सिलाई-कढ़ाई आदि प्रशिक्षणों का भी निरीक्षण किया। उन्होंने थारू हथकरघा घरेलू उद्योग द्वारा निर्मित वस्तुओं को देखा और उनकी सराहना की। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि वो इन वस्तुओं की बिक्री के लिए जिला मुख्यालय पर स्टाल लगवाएं। इसके बाद महिलाओं के हाथ से बने जूट से बने थैले, टोपी बैग आदि को देखा। आरती राणा के गांव पहुंचकर मंडलायुक्त ने थारू हथकरघा घरेलू उद्योग समूह का निरीक्षण किया। इस दौरान थारू महिलाएं दरी व बांस की तीलियों से बैग तैयार कर रही थी। इस दौरान मंडलायुक्त कमिश्नर मुकेश मेश्राम ने आरती राणा से पूछा यह समूह कब से चल रहा है तो उन्होंने बताया 2008 से परियोजना द्वारा डब्ल्यूडब्ल्यूएफ के द्वारा चालू कराया गया था।उसके बाद थारू हाथ करंगा घरेलू उद्योग समूह के नाम से चल रहा है। जिसमें लगभग 50 महिलाएं 24 घंटे काम करती हैं‌। इस दौरान डीएम शैलेंद्र सिंह, सीडीओ अरविंद कुमार, सीएमओ मनोज अग्रवाल, एसडीएम पूजा यादव, सीओ कुलदीप कुकरेती सहित पुलिस बल मौजूद रहा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button