National

चक्रवाती तूफान जवाद मचाएगा तबाही ? उत्तर भारत के राज्यों में दशहरा तक तेज बारिश की संभावना!

नई दिल्ली ,(आरएनएस)। उत्तर भारत में अचानक से मौसम के करवट लेने की संभावना है. तेज आंधी-तूफान के साथ बारिश होने के आसार हैं. मौसम विभाग के अनुसार बंगाल की खाड़ी में चक्रवाती तूफान का दबाव बन रहा है जिसका नाम जवाद है. इस चक्रवाती तूफान का असर ओडिशा, आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र पर पड़ सकता है. दिल्ली एनसीआर, हरियाणा और  पंजाब के भी इससे प्रभावित होने के आसार हैं. तूफान की वजह से अचानक तेज बारिश और आंधी चलने की संभावना है, इसकी तीव्रता बहुत ज्यादा होगी. उत्तर भारत सहित देश के अधिकतर हिस्सों से मानसून की वापसी हो रही है, लेकिन कुछ राज्यों में अगले 24 घंटे में भारी बारिश की आशंका है.
भारतीय मौसम विभाग की मानें तो 12 अक्तूबर को जोरदार बारिश होने के आसार हैं. इधर जम्मू कश्मीर में ऊपरी इलाकों में बर्फबारी और मैदानी इलाकों में बारिश होने से घाटी में गर्मी से लोगों को राहत मिली है. सोमवार को पारा कई डिग्री तक लुढ़क गया. गुलमर्ग के अफ्फारवत और अन्य पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी हुई है जबकि रविवार रात से समूची कश्मीर घाटी में कई घंटे बारिश हुई है. वहीं दिल्ली में मंगलवार सुबह मौसम गर्म रहने के साथ ही न्यूनतम तापमान सामान्य से अधिक दर्ज किया गया. मौसम विभाग के अनुसार, दिन में आमतौर पर आसमान साफ रहने की संभावना है.
झारखंड में एक बार फिर मौसम का मिजाज बदलेगा. मौसम वैज्ञानिकों की मानें अगले दो से तीन दिनों में मानसून की हवा वापस हो जायेगी. इस दौरान राज्य में बारिश हो सकती है. 13 से 16 अक्टूबर तक राज्य के कई इलाकों में बारिश की संभावना है. इसके बाद ठंड की शुरुआत हो जायेगी. मौसम विभाग ने अपने पूर्वानुमान में बताया है कि झारखंड से मानसून की हवा अगले दो से तीन दिनों में वापस हो जायेगी.
बिहार की राजधानी पटना बेहतर मॉनसून के बाद प्रदेश में इस साल दीपावली और छठ पर सामान्य से कुछ अधिक ठंड पडऩे के आसार हैं. अधिकतम तापमान में गिरावट महसूस होने लगी है. प्रदेश में तुलनात्मक तौर पर अधिकतम तापमान में एक डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज की गयी है.
मौसम विभाग ने 12, 13 और 14 अक्टूबर को केरल के छह जिलों में भारी बारि

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button