Amethi

बिना उपकरण चल रहा विशेष सर्विलांस अभियान कितना होगा सफल?

सर्वे टीम के पास नहीं है इंफ्रारेड थरमामीटर व पल्स ऑक्सीमीटर।

सर्विलांस कार्य को मानको के अनुरूप पूर्ण करने के जिलाधिकारी ने दिये थे निर्देश

अमेठी। उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा कोरोना की रोकथाम के लिये पूरे प्रदेश में 5 जुलाई से 15 जुलाई तक विशेष सर्विलांस अभियान चलाकर सर्वे कराया जा रहा है। अमेठी में भी जिलाधिकारी अरुण कुमार ने 04 जुलाई को कोविड-19 के रोकथाम एवं नियत्रंण के लिए विशेष सर्विलांस अभियान के सफल संचालन हेतु जिला स्तरीय टास्क फोर्स की बैठक की बैठक कर सर्विलांस कार्य को मानको के अनुरूप पूर्ण करने के जिलाधिकारी ने निर्देश दिये थे । जिलाधिकारी ने बताया था कि प्रदेश में कोरोना वायरस में वृद्धि को ध्यान में रखते हुए कोविड-19 पर प्रभावी नियत्रंण के लिए एक विशेष सर्विलांस अभियान संचालित किया जा रहा है। इसके लिए माइक्रो प्लान के अनुसार जनपद में टीमों का गठन किया जायेगा। इन टीमों के द्वारा घर-घर जाकर संवेदीकरण करने के साथ-साथ कन्टेनमेंट जोन में आई0एल0आई एवं एस0ए0आर0आई0 तथा कन्टेनमेंट जोन में एस0ए0आर0आई0 के रोगियों का घर-घर जाकर गहन सर्वेक्षण किया जायेगा। प्रत्येक सर्वेक्षण टीम में दो सदस्य होंगे तथा टीम द्वारा 5 जुलाई से 15 जुलाई तक प्रातः 8 बजे से अपरान्ह 2 बजे तक भ्रमण किया जायेगा। बैठक में मुख्य चिकित्साधिकारी द्वारा बताया गया कि सर्वेक्षण टीम द्वारा इन्फ्रारेड थर्मामीटर एवं पल्स आक्सीमीटर का उपयोग किया जायेगा। सर्वेक्षण के पूर्ण होने पर प्रत्येक घर पर जागरूकता के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा तैयार किया गया स्टीकर लगाया जायेगा। जिसका उद्देश्य रहेगा कि आई0एल0आई0 एवं एस0ए0आर0आई0 मरीजों को आइडेंटिफाई कर सकें ताकि उन्हें क्वारेंटाइन, आइसोलेशन या अन्य उपचार हेतु भेजा जा सके। 5 जुलाई से यह अभियान शुरु हुआ तो टीमों के पास न तो इंफ्रारेड थरमामीटर थे और न ही पल्स ऑक्सीमीटर। जिला मुख्यालय पर वार्ड 13 में स्थित इस संवाददाता के घर जब सर्वे टीम आई तो मौके पर मौजूद संवाददाता से ही पूछा कि आपके घर में कितने लोग हैं, जबाब था 15 । किसी को सर्दी जुकाम, बुखार तो नहीं, जबाब नहीं औऱ फिर टीम कुछ लिखकर चलता बनी। संवाददाता के पूछने पर कि तापमान व पल्स अक्सीमीटर से चेक नहीं होगा तो टीम ने कहा कि अभी इंफ्रारेड थरमामीटर व पल्स ऑक्सीमीटर मिले नहीं है। इस संबंध में मुख्य चिकित्सा अधिकारी राजेश मोहन श्रीवास्तव ने बताया कि पूरे जिले में 590 टीमें काम पर लगी हैं। इन्फ्रारेड थर्मोमीटर जिला पंचायत राज अधिकारी को खरीद कराकर उपलब्ध कराना था जो उन्होंने 12 जुलाई को कराया। रविवार को सभी टीमों को इन्फ्रारेड थर्मोमीटर वितरित किया गया है। पल्स ऑक्सीमीटर से चेक करना जरूरी नहीं है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button