Sultanpur

शहर से सटे ग्राम सभा ताजखानपुर मे ट्रांसफार्मर समेत गिरे कई विद्युत पोल

 

सुलतानपुर। विद्युत विभाग की लापरवाहियों के चलते आये दिन अघोषित कटौती से लेकर विभिन्न प्रकार की समस्याओं का सामाना ग्रामीणों को करना पड़ रहा हैं ।
ग्रामीणों का कहना है
विद्युत पोलों के गिरने से बड़ा हादसा हो सकता था।विभागीय अधिकारी को फोन किया जाता था लेकिन उनका फोन नहीं उठता था। झुके पोल हादसे को निमंत्रण दे रहे थे।जानकारी के बाद भी अधिकारी अनदेखी कर रहे थे।
विद्युत विभाग की लापरवाही के चलते शहर से सटे हुये ग्राम सभा ताजखानपुर में कई विद्युत पोल बड़े हादसों का संकेत दे रहे थे। इन पोलों की देखरेख के अभाव में हल्की आंधी में उ तीन विद्युत पोल उखड़ गए। विभाग की लापरवाही के कारण शहर से सटे ग्रामसभा ताजखानपुर में गिरे ट्रांसफार्मर व कई बिजली के पोल से बड़ा हादसा टल गया। जर्जर विद्युत पोल को लेकर तमाम शिकायतों के बावजूद भी संबंधित अधिकारी कोई कार्रवाई नहीं किए। ताजखानपुर की दलित बस्ती में विद्युत पोल जगह-जगह क्षतिग्रस्त है ।इसमें लोहे का विद्युत पोल तालाब के अंदर खड़ा था। बारिश के समय इसमें करंट प्रवाहित होते तो कई इंसान व पशु इसकी चपेट में आ सकते थे। आसपास के घरों के बच्चे कई बार खेलते-खेलते इस खंभे तक पहुंचते है जिससे घर वालों को हर समय इसकी निगरानी करनी पड़ रही थी।
ताजखानपुर में गिरे ये पोल बड़ें हादसे को अंजाम दे सकते थे ।यहाँ तक की आसपास के घरों को भी चपेट में ले सकते थे।सीधा मार्ग होने से यहां हर समय आवागमन होता रहता है। इसको लेकर लोगों की ओर से कई बार विभाग को सूचना देने के बाद भी कोई समाधान नहीं किया गया । कई पोल क्षतिग्रस्त थे एक पोल तो गिरने की स्थिति में खड़ा था। खंभा झुकने से विद्युत तार भी ढीले पड़ गए। जिससे इस मार्ग से भारी वाहनों का आवागमन ठप्प हो गया था । कई बार बड़े वाहनों को आगे जाने के लिए दूसरे रास्ते से होकर गुजरना पड़ रहा था।तालाब के पास पोल के नींव की मिटटी खिसकने से ये पोल गिरने की स्थिति में बना हुआ था। निचला हिस्सा काफी जर्जर होने के कारण कभी भी दुर्घटना हो सकती थी। आसपास के ग्रामीणों ने कई बार संबंधित अधिकारियों को पोल ठीक करने की शिकायत भी किया था ।बावजूद इसके कई महीनों से संबंधित अधिकारी कार्रवाई नहीं कर रहे थे। ग्रामीणों ने जर्जर विद्युत पोलो को अतिशीघ्र बदलवाए जाने की मांग कर चुके है। जर्जर विद्युत पोल से कभी भी कोई भी दुर्घटना हो सकती थी।

विनोद पाठक-निर्वाण टाइम्स- सुलतानपुर

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button