Lakhimpur-khiri

लखीमपुर केस : सामूहिक दुष्कर्म के बाद रस्सी से गला कसकर हत्या

लखीमपुर-खीरी(निर्वाण टाइम्स)।थाना निघासन क्षेत्र में बुधवार की देर शाम जिन दो सगी बहनों के शव संदिग्ध हालात में खैर के पेड़ से लटकते मिले थे, उनकी रस्सी से गला कस कर हत्या की गई थी। उनके साथ सामूहिक  दुष्कर्म भी किया गया था। इसकी पुष्टि गुरुवार को उनके शवों के पोस्टमार्टम के बाद हुई है।

जिला मुख्यालय पर डा. राजेंद्र, डा. ओवैस अहमद और डा. अर्चना के पैनल ने दोनों शवों के पोस्टमार्टम किए। इस दौरान वीडियोग्राफी भी कराई गई। पोस्टमार्टम के दौरान सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर भारी पुलिस बल मौजूद रहा। एसपी संजीव सुमन और एडिशनल एसपी अरुण कुमार समेत कई सीओ और इंस्पेक्टर पूरे समय मौजूद रहे।समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के कई नेता भी पोस्टमार्टम हाउस पर डटे रहे। करीब 11:30 बजे पूर्वाहन में दोनों शवों को पोस्टमार्टम के बाद एंबुलेंस से निघासन भेज दिया गया।बुधवार को दोपहर में दो सगी बहनों का बाइक सवार युवकों ने अपहरण कर लिया था। इसके बाद उनकी हत्‍या कर शव को एक पेड़ से लटका दिया था। क्षेत्र के एक गांव निवासी एक ग्रामीण के घर के आसपास गन्ने के खेत हैं। गांव की बाकी बस्ती थोड़ी दूरी पर है। बुधवार शाम करीब पांच बजे ग्रामीण धान काटने गया था। उसकी बीमार पत्नी घर पर थी।ग्रामीण की पत्नी ने बताया कि उसकी दो बेटियां घर के बाहर लगी चारा मशीन पर जानवरों के लिए चारा काटने जा रही थी। तभी सफेद बाइक पर सवार तीन अज्ञात युवक वहां पहुंचे। इनमें से दो ने दोनों बेटियों को दबोच लिया और गन्ने के खेत में खींचकर ले जाने लगे। उनका तीसरा साथी बाइक लेकर रास्ते पर चला गया।ग्रामीण की पत्नी ने शोर मचाते हुए उनका पीछा किया तो एक ने उसे लात मारकर गिरा दिया। इसके बाद वे दोनों लड़कियों को लेकर वहां से खेत में होकर भाग गए। ग्रामीण की पत्नी के शोर मचाने पर गांव से तमाम लोग उसके घर पहुंचे और गन्ने के खेतों में लड़कियों की तलाश शुरू की। करीब 40 मिनट बाद गांव से करीब पौन किमी दूर एक ग्रामीण के गन्ने के खेत में लगे खैर के एक छोटे पेड़ में दोनों लड़कियों के शव उनके दुपट्टे से लटकते मिले।

 

लखीमपुर खीरी के एसपी संजीव सुमन ने आरोपितों के बारे में औपचारिक प्रेस वार्ता में जानकारी दी। पुलिस ने दावा किया है कि हत्या के इस मामले में कोई उनको अगवा करके लेकर नहीं गया था बल्कि वह दोनों स्वयं किसी छोटू नामक आरोपित के साथ गई थीं। जिसके बाद उनके साथ अनहोनी हो गई। पुलिस ने जिन छह लोगों को गिरफ्तार किया है उनमें छोटू, सुहेल, जुनैद, हफीजुल्लाह करीमुद्दीन, आरिफ व जुनैद के नाम शामिल है। पुलिस के मुताबिक, एक आरोपी जुनैद झंडी चौकी क्षेत्र में मुठभेड़ के बाद जख्मी भी हुआ है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर एडीजी कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार (ADG Law and Order Prashant Kumar) मौके पर पहुंचेंगे। वह अपनी रिपोर्ट सीएम योगी आदित्यनाथ को देंगे। उधर उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य (Keshav Prasad Maurya) तथा उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक (Brajesh Pathak) ने भी इस कांड की निंदा करने के साथ दोषियों को शीघ्र ही सख्त से सख्त सजा दिलाने की बात कही है।

सरकार के कदम से उनकी आने वाली पीढ़ियों की आत्मा भी कांप उठेगी : डिप्टी सीएम

लखनऊ(निर्वाण टाइम्स)।यूपी के लखीमपुर जिले के निघासन में दो सगी बहनों का अपहरण कर दुष्‍कर्म के बाद हत्‍या कर उनके शवों को पेड़ से लटकाने के मामले में पुल‍िस ने मुख्य आरोप‍ित छोटू समेत इस कांड में शामि‍ल 6 आरोप‍ितों को गिरफ्तार कर ल‍िया है।उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा क‍ि लखीमपुर की घटना दुखद एवं दुर्भाग्यपूर्ण है। सभी अपराधियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए। मैं विपक्ष से उम्मीद करता हूं, चाहे अखिलेश यादव हों, प्रियंका गांधी हों या मायावती हों, कि वे राजनीतिकरण करने के बजाय परिवार को सांत्वना दें। लेकिन यूपी में कानून का राज कायम है।यूपी के उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने लखीमपुर कांड  मामले में कहा क‍ि अपहरण के बाद दुष्‍कर्म और हत्‍या में जुनैद, सोहेल, हाफिजुल, करीमुद्दीन और आरिफ शामिल थे। पहले लड़कियों की गला दबाकर हत्या की गई और फिर उन्हें फांसी पर लटका दिया गया। सरकार ऐसा कदम उठाएगी कि उनकी आने वाली पीढ़ियों की आत्मा भी कांप उठेगी। न्याय दिया जाएगा; फास्ट-ट्रैक कोर्ट के माध्यम से कार्रवाई की जाएगी।बता दें क‍ि आरोपितों की पहचान छोटू, सुहैल, जुनैद, हाफिज और हफीजुल के तौर पर हुई है। इस मामले में लखीमपुर खीरी के एसपी संजीव सुमन ने कहा कि लड़कियों के साथ दुष्‍कर्म के बाद उनकी गला घोंटकर हत्या कर दी गई। पूरे मामले में नामजद अभियुक्त समेत 6 को गिरफ्तार किया गया है। एक आरोप‍ित के पैर में गोली भी लगी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button