National

कश्मीर में ड्रग्स तस्करी रैकेट का भंडाफोड़, गिरफ्तार 17 लोगों में से 5 पुलिसकर्मी

श्रीनगर। एंटी नारकोटिक कैपेंन में एक बड़ी सफलता के रूप में जम्मू-कश्मीर पुलिस ने शुक्रवार को कुपवाड़ा और बारामूला जिलों में ड्रग्स तस्करी के एक बड़े रैकेट का भंडाफोड़ किया है। पुलिस ने कहा कि कुपवाड़ा और बारामूला जिलों से पांच पुलिसकर्मियों, एक राजनीतिक कार्यकर्ता, एक ठेकेदार और एक स्थानीय दुकानदार सहित 17 लोगों को ड्रग्स तस्करी के रैकेट में गिरफ्तार किया गया है, जो पाकिस्तान से शुरु हुआ था।
कुपवाड़ा जिले के दर्जीपुरा गांव के पोल्ट्री दुकान के मालिक मोहम्मद वसीम नजर को उसके घर से कुछ नशीले पदार्थ बरामद होने के बाद गिरफ्तार किया गया। जांच के बाद, वसीम ने ड्रग पेडलर्स के एक बड़े समूह का हिस्सा होना स्वीकार किया और कुपवाड़ा जिले और बारामूला जिले के उरी क्षेत्र से संबंधित अपने कुछ सहयोगियों के नामों का खुलासा किया।
बाद की छापेमारी में, 16 और लोगों को गिरफ्तार किया गया, जिनमें पांच पुलिसकर्मी, एक राजनीतिक कार्यकर्ता, एक ठेकेदार और अन्य शामिल हैं। गिरफ्तार किए गए पुलिसकर्मी विभाग में एसपीओ के रूप में काम कर रहे थे। चल रही जांच ने स्थानीय युवाओं और उनके भविष्य को बर्बाद करने के उद्देश्य से घाटी में नशीले पदार्थों को बढ़ावा देने में पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संचालकों की सीधी संलिप्तता को उजागर किया है।
मूल रूप से कुपवाड़ा जिले के केरन से ताल्लुक रखने वाला पाकिस्तान स्थित आतंकवादी हैंडलर शाकिर अली खान एलओसी के इस तरफ अपने बेटे तहमीद खान को नशीले पदार्थों का मुख्य आपूर्तिकर्ता बन गया है।
तहमीद के कबूलनामे और खुलासे पर, 2 किलोग्राम हेरोइन जैसे नशीले पदार्थ के दो पैकेट बरामद किए गए हैं। तहमीद इसे अपने अन्य गिरफ्तार साथियों के बीच बेचने के लिए कुपवाड़ा ले जाता था और काफी पैसा कमाता था।
तहमीद के पिता शाकिर अली खान ने 1990 के दशक की शुरूआत में आतंकवादी रैंकों में शामिल होने के लिए पहली बार नियंत्रण रेखा पार की। अवैध हथियारों और गोला-बारूद का प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद, शाकिर ने वापस घुसपैठ की और केरन क्षेत्र में हिजबुल संगठन के शीर्ष सक्रिय आतंकवादियों में से एक बना रहा।
शाकिर फिर से पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में चला गया। वह वर्तमान में कश्मीर घाटी में हथियार, गोला-बारूद और ड्रग्स को सप्लाई करने में शामिल एक शीर्ष आतंकवादी हैंडलर के रूप में काम कर रहा है। पिछले तीन महीनों के दौरान, तहमीद खान की अध्यक्षता वाले मॉड्यूल द्वारा 5 करोड़ रुपये मूल्य के लगभग 5 किलोग्राम ड्रग्स को बाजार में भेजा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button