Basti

देखों सरकार कैसे मुफलिस की जिन्दगी जी रहा, यह गरीब परिवार

 

बस्ती(रुबल कमलापुरी)। देश आज 21 वी शताब्दी मे चल रहा है और देश की जनता आज भी मुफलिस की जिन्दगी जीने को मजबूर है तमाम सरकारे आयी और चली गयी लेकिन विकास के बडे बडे दावे करने वाली सरकार इन गरीबों का आज तक उत्थान नही कर पाई इन गरीबो को विकास के मुख्यधारा से नही जोड पाई विकास किस चिडिय़ा का नाम है ये गरीब आजतक नही देख पाये गरीबी का डंस झेल रहा एक ऐसा परिवार जिसके पास न घर है न पीने के लिए शुद्ध पानी की व्यवस्था और न ही दवा कराने के लिए आयुष्मान कार्ड है प्राचीन काल से चली आरही मिट्टी के चूल्हे पर भोजन पकाना इनकी मजबूरी है गैस का नाम तो सुना है परन्तु देखा नही, आजतक इनको उज्जवल गैस सैलेन्डर भी नही मिला पाया,पात्रता की सूची बना रहे लोगो को शायद ये बस्ती के सबसे आमीर व्यक्ति मानते थे इसलिए सूची मे इन गरीबों का नाम ही नही भेजा, बस्ती जनपद के विकासखंड विक्रमजोत के प्रतापगढ़ गाँव मे हर साल बारिस के मौसम मे थोड़ा थोड़ा कर के मिट्टी की दीवार गिरती जा रही है छप्पर ऐसा कि एक बूँद पानी मकान से बाहर नही जाता और ऊपर से कुदरत का कहर पति चार वर्षों से गंभीर बिमारी से पीडित दवा के लिए पैसे भी नही और तो और सरकार द्वारा गरीबो के लिए चलाया गया आयुष्मान कार्ड भी आज तक नही बना है भोजन के लिए लाले पडे है इस अल्पसंख्यक के पांच परिवार मुफलिस की जिंदगी जीने को मजबूर है कि इनकी गरीबी देखने के बाद कलेजा मुँख को आ जाता है शाहिदा का पति लगभग 4 वर्षों से बीमार है परिवार के लिए ये महिला दो जून की रोटी की व्यस्था करे या पति की दवा कराये, बरसात के इस मौसम में यह पूरा परिवार पूरी रात जाग कर अपनी जिंदगी को बडी मुश्किल से काट रहा है जहां एक तरफ सरकार विकास की किरण समाज के अंतिम आदमी तक पहुँचाने का दावा कर रही है और इन गरीबों को विकास की मुख्यधारा से जोडने की बात कर रही है लेकिन आज तक इस परिवार के पास जीने के लिए मूलभूत सुविधा तक नही उपलब्ध करा पाई है विकास किसे कहते है यह गरीब परिवार आज भी इस नाम से कोसो दूर है जब इसके बारे मे ज्वाइट मजिस्ट्रेट प्रेम प्रकाश मीणा से बात की गयी तो उन्होंने बताया की इस परिवार का तुरंत जाँच करवाया जायेगा और हरसंभव इस परिवार की मदद की जायेगी और यह परिवार किन कारणो से सरकारी लाभ नही पायें कौन दोषी है सब की जाँचपडाताल की जायेगी और तुरंत हरसंभव मदद इस गरीब परिवार के लिए प्रशासन की तरफ से किया जायेगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button