Deoria

तीन वर्षों में मिले कच्चे मकान वाले कालाजार रोगियों को आवास

 

छ: ब्लाक के 29 गाँवो में सर्वे कार्य जल्द होगी पूरी

देवरिया (वी.के.श्रीवास्तव)। शासन की मंशा और जिलाधिकारी के निर्देश पर जिले के कच्चे मकानों में रहने वाले कालाजार रोगियों को पक्का आवास दिया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग ने इसकी पहल शुरू कर दी है। इस बारे में संबंधित खंड विकास अधिकारी (बीडीओ) को जिला प्रशासन ने सर्वे करने का आदेश जारी किया है। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग ने पिछले तीन सालों में मिले कालाजार रोगियों की सूची तैयार कर भेज दिया है।
सीएमओ डॉ. आलोक पांडेय ने बताया कि कालाजार रोग बालू मक्खी के काटने से होता है, यह मक्खी नमी वाले स्थानों पर अंधेरे में पाई जाती है। इसके काटने के बाद मरीज बीमार हो जाता है। उसे बुखार होता है और रुक-रुक कर बुखार चढ़ता-उतरता है। कालाजार से बचाव के लिए कच्चे मकान वाले कालाजार रोगियों को पक्का आवास दिया जायेगा। आवास के लिए राशि उन्हें सरकारी योजनाओं के आधार पर ही उपलब्ध कराया जाएगी ताकि जल्द से जल्द ये लोग साफ सुथरे घरों में रह सकें। उन्होंने बताया जिले के कालाजार प्रभावित बैैतालपुुर, बनकटा, भाटपाररानी, पथरदेवा, भलुअनी और भटनी ब्लाक के 29 गांवों में कच्चे मकान वाले कालाजार रोगियों का सर्वे कराया जायेगा। इन ब्लॉकों के जगदीशपुर, राजपुर कठेरिया, खेमीपुर, गजहड़वा, खड़सरवा बुजुर्ग, सिरिसिया पवार, नियरवा, खुरवासिया, बसावनचक, चंदाचक, परसिया छितही सिंह, भिंगारी, धरमखोर, पिपरा बिठ्ठल, भाटपाररानी, कोला छापर, बटुलही, सुरवल, रोहिनिया, दिनाचौक, छपिया बघेल, नेउराहा, मिश्रोली, मदन चौक, हाटा, मोतीपुर, रघुनाथपुर, खामपार, धुसवा, अहिरौली बघेल आदि गांवों में कच्चे मकान वाले कालाजार मरीजों का चयन कर उन्हें आवास की धनराशि आवंटित की जाएगी।

तीन वर्षों के मरीजों के आंकड़े
************************

पिछले तीन वर्ष के आंकड़ों पर गौर करें तो वर्ष 2018 में 41, 2019 में 42 मरीज व 2020 में अब तक 10 कालाजार के मरीज मिले हैं। इन सभी का इलाज कराया गया, रोगियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग सतर्क है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button